मुश्किल में महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार, BJP सरकार बनाने की जुगाड़ में जुटी !

मुंबई | महाराष्ट्र की राजनीति में एकबार फिर भूचाल आ गया है | शिवसेना के ही एक विधायक ने देशभर में हड़कंप मचा दिया है | विधान परिषद चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की पांच सीटों पर शानदार जीत के साथ ही सियासी भूचाल आ गया है। राज्य के उद्धव ठाकरे की सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। सूत्रों ने कहा है कि भाजपा ने एकनाथ शिंदे को उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की है। सूत्र यह भी बता रहे हैं कि शिंदे करीब दो दर्जन विधायकों को लेकर गुजरात में डेरा जमाए हुए हैं। उन्हें करीब 25 एमएलए का समर्थन प्राप्त है। इस पूरे प्रकरण पर दोपहर दो बजे महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रहे हैं। सूत्र कहते हैं कि भाजपा किसी भी तरह से सरकार बनाने की जुगाड़ में जुट गयी है |

संजय राउत के भड़काऊ भाषणों से मुश्किल में आई शिवसेना : पाटिल
महाराष्ट्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटिल ने कहा है, ”राजनीतिक घटनाक्रम पर हम बारीकी से ध्यान बनाए हुए हैं। इससे कुछ परिवर्तन होगा ये कहना थोड़ा असामयिक होगा।” इस दौरान वह संजय राउत पर भी भड़के। उन्होंने कहा, ”संजय राउत के भड़काऊ भाषणों से ही उनकी पार्टी में समस्या हुई है। लोग इसको बर्दाश्त नहीं करेंगे इसका उदाहरण एकनाथ शिंदे की बगावत है।”

महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर से भयंकर भूचाल मचा हुआ है। यह तब हुआ जब सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे शिवसेना के 14 और 10 निर्दलीय विधायकों के साथ गुजरात के सूरत में है। इनमें महाराष्ट्र सरकार के 3 मंत्री भी शामिल हैं। बताया जा रहा ही कि इन सभी का फोन स्विच ऑफ है। इसके साथ ही उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसी बीच आइए जानते हैं कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए संख्या का क्या गणित है।

दिल्ली नहीं जाएंगे कांग्रेस विधायक-
इसी उठापटक के बीच कांग्रेस की तरफ से यह खबर सामने आ रही है कि उनके विधायक अब दिल्ली नहीं जाएंगे। सभी कांग्रेसी विधायकों को मुंबई में ही रहने को कहा गया है। पहले यह तय हुआ था कि सभी विधायक दिल्ली जाएंगे।

शिवसेना के संकटमोचक ने ही उद्धव ठाकरे का बढ़ाया संकट, एकनाथ शिंदे बालासाहेब के थे बेहद करीबी-
महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार पर संकट है। कुल 26 विधायकों के साथ पार्टी के सीनियर नेता और मंत्री एकनाथ शिंदे सूरत में कैंप कर रहे हैं। एक तऱफ उद्धव ठाकरे ने आपातकालीन बैठक बुला ली है तो वहीं उत्साहित भाजपा के सीनियर नेताओं की दिल्ली में बैठक चल रही है। बीते करीब ढाई साल से चली आ रही उद्धव ठाकरे सरकार को यह झटका उनके ही करीबी नेता एकनाथ शिंदे ने दिया है।