लखनऊ में रिक्शा चालक की हत्या

लखनऊ; राजधानी में हत्याओं का सिलसिला थम नहीं रहा है। ताजा मामला चिनहट थाना क्षेत्र का है यहां एक रिक्शा चालक की किसी धारदार हथियार से हत्या कर दी गई। उसका खून से लथपथ शव गुरूवार को कठौता झील के किनारे पड़ा मिलने से हड़कंप मच गया। मृतक के गर्दन के अलावा शरीर पर कई जगह गहरे घाव के निशान थे। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस मामले की छानबीन कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। हत्या करने का शक किसी करीबी पर ही गहरा रहा है। वहीं पुलिस मामले को आशनाई से भी जोड़कर पड़ताल कर रही है। संदेह के आधार पर पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।
जानकारी के मुताबिक, चिनहट थाना क्षेत्र के सीबीसीआईडी कार्यालय से चंद कदमों की दूरी पर स्थित कठौता झील के किनारे एक युवक का शव पड़े होने की सूचना आसपास के लोगों ने पुलिस को दी। सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह ने बताया मुताबिक, मौके पर पहुंचे की मामले की पड़ताल की जा रही थी कि इसी दौरान एमिटी के पास झोपड़ी डालकर रहने वाले गोंडा निवासी सोनू पाल ने शव की पहचान अपने 30 वर्षीय भाई मोनू पाल के रूप में की।
सीओ का कहना है कि मृतक के गर्दन पर चोट के निशान है। ऐसा लग रहा है कि हत्यारों ने किसी धारदार हथियार से वारकर जान ली है। मृतक के भाई सोनू अंसल ग्रुप में काम करता है। जबकि सोनू रिक्शा चलाकर अपना जीवन-यापन करता था। घटनास्थल के हालात देखकर साफ पता चल रहा था कि मोनू व हत्यारों के बीच काफी देर तक वहां संघर्ष हुआ। उसके बाद उन लोगों ने उसकी हत्या कर दी। पुलिस का शक किसी करीबी पर ही गहरा रहा है।
जांच पड़ताल में जुटी पुलिस आश्नाई के अलावा कई बिंदुओं को जोड़कर छानबीन कर रही है। वहीं सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह का कहना है कि इस मामले में पुलिस टीम को कुछ अहम सुराग मिले हैं और जल्द ही राजफाश होने की उम्मीद है। मृतक की पत्नी के अलवा एक बेटा है।