लखनऊ में 25 नवंबर को होगी दलित-मुस्लिम हुंकार रैली : फिक्र-ए-मिल्लत

लखनऊ । तहरीक फिक्र-ए-मिल्लत फाउण्डेशन के तत्वावधान में आगामी 25 नवम्बर को राजधानी लखनऊ में दलित-मुस्लिम हुंकार रैली आयोजित की जाएगी। इस रैली में देश के विभिन्न हिस्सों से दलित-मुस्लिम सांसद, विधायक व अन्य जन प्रतिनिधि तथा समाजसेवी शामिल होंगे। रैली की तैयारी जोरशोर से जारी है।

रविवार को राजधानी के न्यू हैदरगंज द्वितीय वार्ड स्थित कश्मीरी बाग पक्काबाग में एक सभा का आयोजन किया गया। संगठन के महासचिव मोहम्मद हनीफ खान ने सभा को सम्बोधित करते हुए उपस्थित जन समुदाय को 25 नवम्बर को होने वाली हुंकार रैली के बाबत विस्तार से जानकारी दी। श्री खान ने उपस्थित लोगों से ज्वलन्त मुद्दो को लेकर 25 नवम्बर को होने वाली दलित-मुस्लिम हुंकाररैली में पहुंचकर अपने हक और अधिकारों के लिए हुंकार भरने का आहवान किया। सभा में उपस्थित लोगों ने अनीसा बानो के नेतृत्व में श्री खान का स्वागत किया।

श्री खान ने सभा में उपस्थित जनसमुदाय को सम्मबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार की गलत कार्य प्रणाली के चलते बढ़ती मंहगाई, दूषित पेयजल आपूर्ति, गन्द्गी और पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दामों से जनता त्रस्त है। महिलाओं का उत्पीड़न चरम पर है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अपराध का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। गैस के दामो में लगातार वृद्घी से जनता की कमर टूट चुकी है। विकास कार्यों में प्रदेश पिछड़ गया है। विवेक तिवारी हत्याकाण्ड में उनके परिवार के प्रति श्री खान ने सहानुभूति व्यक्त की और सत्ता एवं विपक्ष पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा कि एक जघन्य घटना में सत्ता/सम्पूर्ण विपक्ष ने सहानुभूति व्यक्त की वहीं दूसरी और ठाकुरगंज में दो भाईयों की निर्मम हत्या पर चुप्पी क्यों साधी क्योकि वो एक अलग वर्ग विशेष से जुडी हुई घटना हैं जोकि घोर निन्दनीय है ।