भाजपा का दलित प्रेम बेनकाब, ‘मायावती’ को गंदी बात कहने वाले दयाशंकर को भाजपा में मिला बड़ा पद

लखनऊ | सत्ता से पहले दलित प्रेम का दिखावा करने वाली भाजपा का अब सत्ता में आते ही दलित प्रेम काफूर हो गया है | यूपी में भाजपाराज आने के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती को गन्दी बात कहने वाले दशंकर सिंह को भाजपा ने फिर से पार्टी में वापिस लेकर बड़ा पद दिया है | यूपी चुनाव से ठीक पहले मायावती पर अभद्र टिपण्णी करने वाले दयाशंकर सिंह को भाजपा ने दलित प्रेम दिखाते हुए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया था हालाँकि उनकी पत्मी को भाजपा महिला मोर्चा का अध्यक्ष और फिर भाजपा से टिकट दिया था | अब स्वाति सिंह भाजपा में मंत्री हैं |

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सांसद डॉ. एम एन पांडे ने प्रदेश कार्यकारिणी की सूची जारी की है। नयी सूची में काफी फेरबदल किया गया है। आगरा से पुरुषोत्तम खंडेलवाल को प्रदेश उपाध्यक्ष का पद सौंपा गया है। इसके साथ ही बीएसपी सुप्रीमो मायावती के खिलाफ अपशब्द बोलने वाले दयाशंकर की भी उपाध्यक्ष के रूप में वापसी हुई है। इस टीम में एक दर्जन से अधिक नए चेहरों को जगह दी गई है। महेंद्र नाथ पांडेय की 38 सदस्यीय टीम में 15 उपाध्यक्ष, 7 प्रदेश महामंत्री और 16 प्रदेश मंत्री बनाए गए हैं। केंद्र में मंत्री पद जाने के बाद मुजफ्फरनगर दंगे के आरोपी रहे सांसद संजीव बालियान को भी कार्यकारिणी में फिर से जगह दी गई है। जहां प्रदेश युवा संगठन की कमान सुभाष यादव को दी गई है, वहीं गोविंद शुक्ला को महामंत्री बनाया गया है। भाजपा ने अंसतुष्ट नेताओं को भी संगठन में साधने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। टिकट कटने से नाराज नवाब सिंह नागर प्रदेश उपाध्यक्ष बनाए गए हैं। सुधीर हलवासिया को भी उपाध्यक्ष का पद मिला है। कोर संगठन में 3 महिलाओं को जगह मिली है।

भाजपा में दयाशंकर सिंह की बापसी के बाद भाजपा का दलित प्रेम उजागर हुआ है | दलितों में माया को गन्दी बात कहने वालो को भाजपा में बड़ा देने से भारी आक्रोश व्यापत है | आगामी लोकसभा चुनावो में इसका असर पार्टी पर पड़ना तय माना जा रहा है |