लापरवाही : सिकंदराबाद में सरकारी नलो के हलक सूखे, जनता परेशान

बुलंदशहर | गर्मी का मौसम शुरू होने से पूर्व भले ही शासन व प्रशासन पेय जल व्यवस्था दुरूस्त करने के लाख दावे करता रहा हो लेकिन हकीकत इसके विपरीत है। सिकंद्राबाद ब्लाक की 96 ग्राम पंचायतो मे 248 हैडपंप दम तोड चुके है लेकिन  ब्लाक अधिकारी इस गंभीर समस्या से आखेंबंद किये है।  लोगो की शिकायत के बाद भी नल सही नहीं किये जा रहे हैं जिससे लोगो को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है |
हाल ही मे भीषण गर्मी की तपिश झेल चुके लोगो को मौसम बदलने से बेशक कुछ राहत मिली हो लेकिन यदि सरकारी अमले की घोषणाओ और कागजी आंकडेबाजी को देखे तो सब  कुछ आल इज वैल दर्शाने वाला  प्रशासनिक तंत्र जनपद मे पेयजल की समस्या का समाधान करने मे विफल साबित हो रहा है। अकेले सिकंद्राबाद विकास खंड क्षेत्र की 96 ग्राम पंचायतो मे लगे सरकारी नलो (हैंड पम्प) के हलक सूखे हुए है। ग्रामीणो का आरोप है कि नल लगने से समय एक सप्ताह तक पानी आने के बाद से इन नलो से पानी ही नही निकला है। ऐसा नही है कि सरकारी अभिलेखो मे दर्ज इन  96 ग्राम पंचायतो मे लगे 248  हैंडपंप खराब  होने की जानकारी प्रशासनिक अधिकारियो को न हो लेकिन लापरवाही की हद ने अधिकारियो की आखे बंद कर रखी है। इस मामले का खुलासा अब तब बीडीओ की रिपोर्ट से हुआ है जो शासन की मंशा और प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान की खास बानगी पेश कर रहा है। मौसम मे बदलाव आने से यह मामला अब ठंडे बस्मे मे डाल दिया जायेगा। बीडीओ सुरेन्द्र बहादुर सिंह ने बताया कि  खराब हैंड पंपों को रिबोर  कराने संबंधी रिपोर्ट उन्होने जिला प्रशासन को भेज दी थी तथा हाल ही मे वर्तमान स्थिति से भी अधिकारियो को अवगत करा दिया गया है कार्य के लिये धन आवंटित होते ही नल ठीक कराने का कार्य शुरू हो जायेगा।
 -रिपोर्ट  शुभम अग्रवाल