लखीमपुर कांड: शीतकालीन सत्र का 14वां दिन, हंगामे की भेंट चढ़ी दोनों सदनों की कार्यवाही कल तक के लिए स्‍थगित

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र का 14वां दिन हंगामे की भेंट चढ़ गया। दोनों सदनों में लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर जम कर हंगामा और शोर-शराबा हुआ इस कारण दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। गुरुवार को लोक सभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद कांग्रेस सहित कुछ विपक्षी दलों के सांसदों ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के मामले में विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा अदालत में दिये आवेदन की पृष्ठभूमि में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफे की मांग करते हुए भारी हंगामा किया। राज्य सभा में भी लखीमपुर मामले पर जमकर हंगामा हुआ।

इस बीच व‍िपक्ष लगातार सांसदों का निलंबन वापस लेने और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को पद से हटाने की अपनी मांग पर अड़ा हुआ है। विपक्ष लखीमपुर खीरी मामले को किसानों की सुनियोजित तरीके से हत्या बता रहा है। कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल ने बताया कि सरकार लखीमपुर खीरी मामले में किसी भी तरह की बहस के लिए तैयार नहीं है। इस मामले पर गठित एसआइटी ने अपनी स्‍पेशल रिपोर्ट में साफ-साफ कहा है कि साजिश हुई है। ऐसे मुद्दे पर संसद बहस करने के लिए तैयार नहीं, ये काफी दुर्भाग्‍यपूर्ण है। सरकार को इस मुद्दे पर आगे आना चाहिए और बहस करनी चाहिए।

गुरुवार को संसद की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने फिर से केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के इस्‍तीफे की मांग पर हंगामा किया जिसके चलते सदन की कार्यवाही को दोपहर दो बजे तक के लिए स्‍थगित करना पड़ा। लोकसभा में राहुल गांधी ने कहा कि हमें लखीमपुर खीरी में हुई हत्या के बारे में बोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। इसमें सरकार के मंत्री की संलिप्तता थी और जिसके बारे में कहा गया है कि यह एक साजिश थी। किसानों की हत्या करने वाले मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए और सजा मिलनी चाहिए। बुधवार को भी उन्‍होंने सदन की कार्यवाही स्‍थगित किए जाने के बाद कहा था कि विपक्ष टेनी का इस्‍तीफा लेकर ही दम लेगा।

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को कमजोर करने के सरकार के प्रयासों पर चर्चा करने के लिए लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया है। तृणमूल कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव ने लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत पर चर्चा के लिए आज 16 दिसंबर को सुबह 11 बजे, दोपहर 12 बजे और दोपहर 2 बजे नियम 267 के तहत कामकाज स्थगित करने की मांग की है। कांग्रेस सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने लखीमपुर खीरी कांड को लेकर राज्यसभा में स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया और मांग की कि सरकार मंत्री अजय टेनी का इस्तीफा तुरंत ले।

दोपहर दो बजे के बाद जब दोनों सदनों की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो विपक्ष ने फिर से लखीमपुरी खीरी मामले में मंत्री के इस्‍तीफे की मांग कर हंगामा किया तो दोनों सदनों की कार्यवाही को शुक्रवार तक के लिए स्‍थगित कर दी गई।