केरल : गौकशी मुद्दे पर कांग्रेस ने किया किनारा , कार्यकर्ताओं को निकाला

तिरुवंतपुरम । कांग्रेस ने आज उस घटना से खुद को अलग कर लिया जिसमें कथित रूप से युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने एक बछड़े का सार्वजनिक तौर पर वध किया बताया गया है। उसने कहा कि इस घटना के पीछे जो हैं उनके लिए पार्टी में कोई स्थान नहीं है और उन्हें निलंबित कर दिया गया है। एआईसीसी के मीडिया प्रमुख रणदीप सुरेजवाला ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा इस तरह की कार्रवाई ‘बिल्कुल अस्वीकार्य है’ और सभ्य समाज से बिल्कुल अपरिचित और हमारी संस्कृति और संस्थापक सिद्धांतों’ के विपरीत है। उन्होंने कहा, ‘‘जिसने ऐसा किया है, भले ही वह कोई भी हो, पार्टी में उसके लिए कोई स्थान नहीं है और ऐसे में पार्टी कार्यकर्ताओं को पहले ही युवा कांग्रेस से निलंबित कर दिया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे तत्वों का कांग्रेस या हमारी संस्कृति में कोई स्थान नहीं है। भारतीय संस्कृति किसी भी जीवित प्राणी को नुकसान पहुंचाने के पक्ष में नहीं है, गाय बहुत पवित्र है जिसे हम लोग मानते हैं और आदर करते हैं।’’

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने युवा कांग्रेस के सदस्यों द्वारा पशु के कथित वध की निंदा की थी। सरकार द्वारा वध के लिए गायों की खरीद फरोख्त पर प्रतिबंध लगाये जाने के खिलाफ युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। इस घटना को ‘विवेकहीन और बर्बर’ करार देते हुये उन्होंने कहा कि यह उन्हें और उनकी पार्टी को अस्वीकार्य है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘केरल में कल जो हुआ वह अविवेकपूर्ण और बर्बर है तथा यह मुझे एवं कांग्रेस को पूरी तरह अस्वीकार्य है। मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं।’’ हालांकि सुरजेवाला ने सवाल उठाया कि क्या भाजपा अपने पार्टी शासित गोवा और वहां के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से लेकर केन्द्रीय मंत्री किरण रीजिजू तक को ऐसी सलाह देंगे जो इसी तरह की घटनाओं के ‘गुनहगार’ रहे हैं या उन भाजपा शासित अन्य राज्यों को ‘जहां पर ऐसी घटना आम रही हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें पक्षपातपूर्ण राजनीति से बाज आना चाहिए और इस तरह की घटनाओं की पूरी निंदा करनी चाहिए।’’ सुरजेवाला ने उत्तर प्रदेश में दलितों पर हुये हमलों का मुद्दा भी उठाया। विभिन्न हलकों में इस घटना के सुर्खियों में आने के बाद केरल पुलिस ने आज युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया।