केट मिडल्टन की छापी टॉपलेस तस्वीर, अब छह पर आरोप तय

एक फ्रांसीसी मैगज़ीन में डचेज ऑफ़ कैंब्रिज केट मिडल्टन की टॉपलेस तस्वीर छापने के मामले में छह लोगों पर गोपनीयता और अपराध को अंजाम में मदद के आरोप तय किए गए हैं. ये केस फ्रांस में चल रहा है.
जांच में इस प्रगति पर ड्यूक ऑफ कैंब्रिज प्रिंस विलियम ने कहा है कि उनकी पत्नी की टॉपलेस तस्वीर का छापना काफ़ी दुखद था. उन्होंने कहा कि ये उनकी मां डायना के अनुभवों की याद दिलाता है. प्रिंस विलियम ने कहा कि उनकी मां की ज़िंदगी में मीडिया का बेवजह दखल देना कितनी तक़लीफ़देह था, ये बात उन्हें फिर से याद आ गई. इस राजसी जोड़े की तस्वीर 2012 में फ्रांस के फोवांस में ली गई थी. इनकी टॉपलेस तस्वीर फ्रांस की क्लोज़र मैगज़ीन में छपी थी. वहां के स्थानीय अख़बार ला फोवांस में केट की स्विम ड्रेस में भी तस्वीरें छपी थीं.
पेरिस की दो फ़ोटोग्राफी एजेंसियों पर लॉन्ग लेंस से इस रॉयल कपल की तस्वीर लेने का आरोप है. इसके साथ ही डचेज ऑफ़ कैंब्रिज (प्रिंस विलियम की पत्नी) की टॉपलेस तस्वीर एक सार्वजनिक सड़क से लेने का आरोप है.
इसमें शामिल अन्य लोगों पर पेरिस के पास नॉनटेयर में सुनवाई हुई. क्लोज़र मैगज़ीन के संपादक लॉरेंस पिउ, एर्नेस्टो माउरी के साथ इस ग्रुप के सीईओ पर भी सुनवाई हुई. इसके साथ ही इस मामले में ला फोवेंस के फ़ोटोग्राफ़र और अख़बार के प्रकाशन निदेशक पर भी आरोप तय किए गए हैं. एक अभियोजक ने कोर्ट से सभी पर भारी जुर्माना लगाने का आग्रह किया है. वहीं प्रिंस विलियम और कैथरीन के एक वक़ील ने इसे भारी नुक़सानदायक बताया है. क्लोज़र मैगज़ीन से जुड़े प्रतिनिधि ने बताया कि इस मामले में 1.5 मिलियन यूरो (10.5 करोड़ रुपए) मुआवज़ा के दावे की उम्मीद है.
मैगज़ीन ने अपने बचाव में कहा कि ये राजसी जोड़ा है. उनकी शादी का भी भारी कवरेज हुआ था. मैगज़ीन ने कहा कि उनकी तस्वीरें निजता के उल्लंघन के लिए नहीं थी बल्कि सकारात्मक रूप में प्रकाशित की गई थीं.