कासगंज में दंगाइयों ने जमकर मचाया उत्पात, मस्जिद में लगाई आग, भाजपा सांसद ने दिया यह बयान

कासगंज | गणतंत्र दिवस के अवसर पर कासगंज शहर में दो समुदायों में बड़ा टकराव हुआ है | तिरंगा यात्रा के शुक्रवार को मुस्लिम मोहल्ले से निकालने और जय श्रीराम के नारे लगाने से विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गयी | देखते ही देखते दोनों समुदाय आमने सामने आ गए और पथराव होने लगा | सांप्रदायिक बवाल में दो युवको की मौत की खबर है | आगरा और अलीगढ जोन का पुलिस फ़ोर्स हालात काबू में करने के लिए बुलाया गया है लेकिन माहौल तनावपूर्ण है | शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है | दो युवकों की मौत की खबर से हिंदूवादी संगठनों ने शहर भर के बाजार बंद करा दिए, लोग सड़कों पर उतरकर घटना पर आक्रोश जताने लगे। कई स्थानों पर उपद्रवियों ने आगजनी की नाकाम कोशिशें की और पत्थरबाजी की घटनाएं हुई हैं। हालांकि पुलिस अभी तक हालात को काबू में होने की बात कह रही है | अराजक तत्वों को नियत्रिंत करने को पुलिस ने लाठियां भी भांजी हैं। प्रशासनिक अमला हालात काबू करने में जुटा हुआ है |

कासगंज में इस दौरान पुलिसकर्मियों और उपद्रवियों के बीच शहर के कई स्थानों पर झड़पें हुई। पूरे शहर में अघोषित कर्फ्यू जैसे हालात बन गए हैं। अलीगढ़ के आइजी डॉ.संजीव गुप्ता, कमिश्नर सुभाष चंद्र शर्मा समेत पड़ोसी जनपदों की पुलिस फोर्स के अलावा पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं। बवाल की सूचना पर भाजपा सांसद राजवीर सिंह राजू भइया, भाजपा के कई विधायक मौके पर पहुंच गए। भाजपा सांसद ने खुलकर मुस्लिमो के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की | भाजपा सांसद अपनी ही सरकार में धरना प्रदर्शन की चेतावनी देते नजर आये | कासगंज हिंसा पर मुख्यमंत्री ने भी खुद जिले के अफसरों से बात की है | प्रशासनिक अधिकारी भाजपा व हिंदू संगठन के लोगों से बातचीत कर स्थिति समान्य करने की कोशिशों में जुटे हैं। वहीं शासन से अफसर व नेता भी अफसरों से घटनाक्रम के बारे में जानकारी ले रहे हैं। भाजपा नेता अभी कई युवको के लापता होने की बात भी कह रहे हैं |


मस्जिद में लगाईं आग-
उपद्रवियों ने दो युवको की मौत के बाद शहर में जमकर उत्पात मचाया है | सूत की मंदी झंडा चौक स्थित मस्जिद को भी दंगाइयों ने आग के हवाले कर दिया और जमकर उत्पात मचाया | पुलिस हालात पर काबू पाने में लाचार दिखी | मस्जिद में रखा सभी सामान जलकर राख हो गया | मस्जिद में आग लगाने से मुस्लिमो में भी भारी आक्रोश है |