मध्यप्रदेश में कमलनाथ ने भाजपा को दिया जोर का झटका, विधानसभा में दो BJP विधायकों ने कांग्रेस को दिया समर्थन

भोपाल | मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को उसी के विधायकों ने बुधवार को झटका दिया है। दोनों भाजपा विधायकों ने विधानसभा में एक विधेयक पर मतदान के दौरान कांग्रेस के समर्थन में वोट दिया। भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी और शरद कोल ने कांग्रेस सरकार के पक्ष में वोट दिया। बता दें कि दोनों ही विधायक कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे।

त्रिपाठी और कोल ने कहा कि वे अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों के विकास के लिए वह सात महीने पुरानी कमलनाथ सरकार का समर्थन किया। अपराध कानून (मध्यप्रदेश संशोधन) बिल 2019 पर मतदान के दौरान कुल 122 विधायकों ने कांग्रेस के समर्थन में वोट किया। 230 सदस्यों के सदन में सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस के स्पीकर एनपी प्रजापति को मिलाकर 121 विधायक हैं। स्पीकर होने के कारण प्रजापति ने वोटिंग में भाग नहीं लिया। ऐसे में 120 कांग्रेस विधायकों के साथ दो भाजपा विधायकों ने भी इस बिल पर कांग्रेस का समर्थन किया।

मैहर से विधायक त्रिपाठी और ब्योहारी से विधायक कोल ने कहा कि उन्होंने कमलनाथ सरकार को समर्थन इसलिए दिया क्योंकि वह अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों का विकास करना चाहते हैं। दोनों भाजपा विधायकों ने इसे अपनी ‘घर वापसी’ बताया।मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस पर कहा, ‘भाजपा रोज कहती है कि हम अल्पमत की सरकार हैं और यह कभी भी गिर सकती है। फिर भी विधानसभा में अपराध कानून संशोधन विधेयक पर मतदान के दौरान दो भाजपा विधायकों ने हमारी सरकार के पक्ष में वोट डाला।’