भीमा-कोरेगांव हिंसा पर चुप्पी तोड़ें पीएम मोदी : दलित नेता जिग्नेश मेवाणी

नई दिल्ली | महाराष्ट्र में दलितों पर हमले के खिलाफ देशभर के दलित नेताओं में आक्रोश है | गुजरात एक चर्चित दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने भी अब पीएम मोदी पर पुणे हिंसा लो लेकर हमला बोला है | नई दिल्ली में पत्रकार वार्ता करने आये जिग्नेश मेवाणी ने पीएम मोदी को निशाने पर लिया | जिग्नेश मेवाणी ने पुणे में भीमा-कोरेगांव कार्यक्रम के दौरान हुई हिंसा का जिक्र करते हुए कहा कि पीएम मोदी इस मामले में चुप्पी तोड़ें| जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि दलितों के खिलाफ अत्याचार पर पीएम मोदी चुप क्यों हैं.जिग्नेश ने कहा, “मेरी स्पीच का एक भी शब्द भड़काऊ नहीं था. मुझे निशाना बनाया जा रहा है.” उन्होंने कहा कि संघ परिवार और बीजेपी मेरी छवि को खराब करने के लिए बचकाना हरकतें कर रही है. यह गुजरात नतीजों का असर है और ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें 2019 में हार का डर है | प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मेवाणी ने यह भी अपील की कि देश से जाति व्यवस्था खत्म होनी चाहिए. उनका कहना था कि जब सांभाजी में उन्होंने कुछ विवादित बात बोली नहीं तो भड़काऊ भाषण का केस क्यों दर्ज हुआ |

भीमा-कोरेगांव घटना के बाद मेवाणी के खिलाफ हुई पुलिसिया कार्रवाई
मुंबई में मेवाणी के खिलाफ सर्च वारंट जारी हुआ है | साथ ही उन पर भड़काऊ भाषण के मामले में भी केस दर्ज है | उनके खिलाफ यह पुलिसिया कार्रवाई भीमा-कोरेगांव की घटना के बाद हुई है | गुरुवार को मेवाणी के साथ जेएनयू छात्रसंघ के नेता उमर खालिद मुंबई में एक छात्र कार्यक्रम को संबोधित करने वाले थे, जिसे रद्द कर दिया गया था | गुरुवार को ही उनके खिलाफ सर्च वारंट भी जारी हुआ और एफआईआर दर्ज हुई | जिग्नेश मेवाणी ने दिल्ली की प्रेस कॉन्फ्रेंस की जानकारी पहले ही दे दी थी, उन्होंने कहा था कि वो दिल्ली में पीसी करने आ रहे हैं | उसके बाद उन्होंने पीसी में केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर सवाल उठाए |