IPS डीके ठाकुर को राजधानी लखनऊ की कमान

लखनऊ । एटीएस के एडीजी डीके ठाकुर को लखनऊ का नया पुलिस कमिश्नर बनाया गया है। ठाकुर ने रात करीब डेढ़ बजे पुलिस आयुक्त का पद संभाल लिया है। 94 बैच के तेजतर्रार आइपीएस अफसर ठाकुर 2010 से 2012 तक लखनऊ के कप्तान रह चुके हैं। लखनऊ पुलिस का इतिहास कई रोमांचक किस्सों और जांबाजी से भरा हुआ है।यहां अनेक पुलिस अफसर अपनी स्वच्छ छवि व अपने काम से सुर्खियों में रहे नागरिकों का विश्वास भी जीता है।जिसमें एक नाम ध्रुवकांत ठाकुर का भी है।जिनकी कुछ अलग ही पहचान है।

श्री ठाकुर लखनऊ में अपनी तैनाती के दौरान आला अफसरों या नेताओं की परिक्रमा के बजाय वह सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक दफ्तर में बैठकर शिकायतों की सुनवाई करते थे।और उनका तत्काल निस्तारण भी करवाते थे।

बता दें कि लखनऊ में डीआईजी/एसएसपी के पद पर 9 नवंबर 10 को तैनात हुए ध्रुवकांत ठाकुर ने न सिर्फ अपराध और कानून व्यवस्था पर काम किया, बल्कि नियमित रूप से दफ्तर में बैठकर बरसों से लंबित मामलों को कम समय में ही निपटा डाले थे। आला अफसरों या नेताओं की परिक्रमा के बजाय उन्होंने दफ्तर में बैठकर लोगों की शिकायतों की सुनवाई पर पूरा ध्यान दिया था। जिससे राजधानी की कानून व्यवस्था में बड़े पैमाने पर सुधार तो हुआ ही, बल्कि थानों पर फर्जी शिकायत करने वालों सहित दलालों के प्रवेश पर भी रोक लग गयी थी।सादगी से अपना जीवन जीने वाले श्री ठाकुर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पहले से ही काफी सजग रहें हैं।लेकिन बतौर नये पुलिस कमिश्नर श्री ठाकुर के सामने अब महिला सुरक्षा को प्राथमिकता व साइबर अपराध पर नकेल कसना बड़ी चुनौती होगी।