अलीगढ़ में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय हाथ धुलाई दिवस, CMO ने लोगों को ऐसे किया जागरूक-

अलीगढ़ । जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीरज त्यागी के निर्देश पर शनिवार को समस्त चिकित्सा स्वास्थ्य इकाइयों पर समुदाय को जागरूक करने के लिए ग्लोबल हैंडवाशिंग डे (विश्व हाथधुलाई दिवस) का आयोजन किया गया। इसी क्रम में नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पला साहिबाबाद की प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. अंशु सक्सेना के निर्देशन में आशा, एएनएम व अन्य लोगों को ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर हाथ धोने के प्रति जागरूक किया गया। इस दौरान लोगों को संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए जानकारी दी गई।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीरज त्यागी का कहा कि हाथों को स्वच्छ रखकर कोरोना ही नहीं बल्कि कई अन्य तरह की संक्रामक बीमारियों से बचा जा सकता है, क्योंकि हाथों के जरिये मुंह व नाक के रास्ते कई बीमारियाँ शरीर के अन्दर प्रवेश कर जाती हैं ।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी और आरसीएच नोडल डॉ राहुल शर्मा ने बताया कि हाथ धुलने की आदत आपको कई बीमारियों से बचा सकती है। हमारे हाथों में अनदेखी गंदगी होती है जब भी हम किसी वस्तु को छूते हैं या किसी वस्तु के संपर्क में आते हैं तो वह गंदगी हाथों में छुप जाती है ।इसलिए बिना हाथ धोए खाद्य एवं पेय पदार्थ के सेवन से शरीर के अंदर कई बीमारियां जन्म ले लेती है।

नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पला साहिबाबाद प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. अंशु सक्सेना ने बताया कि यह ध्यान रहे कि मां बच्चे को छूने व स्तनपान कराने से पहले, खाना बनाने व खाने से पहले, खांसने-छींकने के फ़ौरन बाद, बीमार व्यक्तियों की देखभाल के बाद और शौच के बाद साबुन-पानी से 40 सेकेण्ड तक अच्छी तरह से हाथों को अवश्य धुलें ।

इस दौरान पीएसआई इंडिया के विक्रम मोहन माथुर, रोमी तिवारी स्टाफ नर्स, विजय शुक्ल एलटी, संजय सिंह टीबी एचवी, जितेन्द्र कुमार एवं आशा साहित अन्य लोग मौजूद रहे l

हाथों की सही सफाई ‘सुमन-के’ (एसयूएमएएन-के) ने समझाई –
साबुन-पानी से हाथों की सही तरीके से सफाई के छह प्रमुख चरण बताये गए हैं, जिसे सुमन-के विधि से समझा जा सकता है । एस का मतलब है पहले सीधा हाथ साबुन-पानी से धुलें, यू- फिर उलटा हाथ धुलें, एम-फिर मुठ्ठी को रगड़-रगड़कर धुलें, ए- अंगूठे को धुलें, एन-नाखूनों को धुलें और के- कलाई को अच्छी तरह से धुलें । इस विधि से हाथों की सफाई की आदत बच्चों में बचपन से ही डालनी चाहिए और उसकी अहमियत भी समझानी चाहिए ।

इन स्थितियों में हाथों की स्वच्छता का रखें खास ख्याल :
-खाना बनाने और खाना खाने से पहले
-शौच के बाद
-नवजात शिशु को हाथ लगाने से पहले
-खांसने या छींकने के बाद
-बीमार व्यक्तियों की देखभाल के बाद
-कूड़ा-कचरा निपटान के बाद