IAS की पत्नी के सीने को छलनी करते आर-पार हुई गोली, दर्दनाक मौत, पढ़िए पूरा मामला-

लखनऊ | लखनऊ के गोमतीनगर के विकल्पखण्ड में राज्य नगरीय विकास अभिकरण (सूडा) के निदेशक उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता सिंह (42) की रविवार दोपहर संदिग्ध हालात में गोली लगने से मौत हो गई। गोली की आवाज सुनकर घरवाले कमरे में दाखिल हुए तो अनीता खून से लथपथ हालत में सोफे पर पड़ी थीं। अनीता को आननफानन ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घरवालों का कहना है कि अनीता अवसाद में थीं और उन्होंने खुदकुशी की है।

वहीं, पुलिस को कमरे से लाइसेंसी पिस्टल, एक खोखा व कुछ दवाएं मिली हैं। अधिकारियों ने पोस्टमार्टम व फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर जांच की बात कही है। विकल्पखण्ड के मकान नंबर 3/127 में रहने वाले उमेश प्रताप सिंह प्रमोटी आईएएस हैं और सूडा में निदेशक के पद पर कार्यरत हैं। वे मूलत: प्रतापगढ़ के पलटनबाजार के रहने वाले हैं। उनके परिवार में पत्नी अनीता सिंह, बेटा आशुतोष उर्फ आयुष व बेटी उपासना है। उपासना इस वक्त नोएडा में है। एएसपी नॉर्थ सुकीर्ति माधव ने बताया कि घटना दोपहर करीब 2:30 बजे की है। परिवार के सभी सदस्यों के अलावा नौकर तुलसीराम और विकास घर में मौजूद थे, जबकि आशुतोष का एक दोस्त भी घर आया हुआ था।

आशुतोष का कहना है कि इसी बीच पहली मंजिल के बेडरूम से गोली चलने की आवाज सुनाई दी। वह लोग भागकर ऊपर पहुंचे तो दरवाजा अंदर से बंद था। पिता उमेश सिंह ने जोर-जोर से दरवाजा खटखटाया लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। इस पर उन लोगों ने दरवाजा तोड़ा और कमरे में दाखिल हुए। देखा तो मां अनीता सिंह लहूलुहान हालत में सोफे पर पड़ी थीं।

कमरे में की थी पूजा –
पुलिस की पूछताछ में नौकर तुलसीराम ने बताया कि अनीता सुबह आठ बजे उठीं थीं। दोपहर में मालिश करने वाली आई थी। मालिश करवाने के बाद करीब दो बजे मालकिन नहाने गई थीं। बाहर आकर वह कमरे में पूजा करने चली गईं। नौकर ने बताया कि वह दरवाजा बंद करके ही पूजा करती थीं। पुलिस को कमरे की टेबल पर काली माता की फोटो भी मिली है।

दो घंटे बाद पुलिस को दी सूचना –
आशुतोष ने बताया कि वह लोग उन्हें इनोवा गाड़ी से पास के एक निजी अस्पताल में ले गए, जहां डॉक्टरों ने ट्रॉमा सेंटर ले जाने की बात कही। ट्रॉमा सेंटर में डॉक्टरों ने अनीता को मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों के मुताबिक गोली अनीता के सीने में बीचों बीच लगी थी, जो कि आर-पार हो गई थी। एएसपी सुकीर्ति माधव ने बताया कि पुलिस को घटना की सूचना शाम करीब साढ़े चार बजे दी गई। चिनहट पुलिस विकल्पखण्ड-3 स्थित उमेश सिंह के आवास पर पहुंची और घटनास्थल को सील कर दिया गया।

दो साल से डिप्रेशन का शिकार थीं –
एएसपी ने बताया कि नौकरों व परिवारीजनों ने अनीता द्वारा खुदकुशी किए जाने की बात बताई है। उमेश सिंह ने पुलिस को बताया कि अनीता करीब दो साल से डिप्रेशन का शिकार थीं और उनका इलाज चल रहा था। पुलिस को उनके कमरे से मानसिक उपचार से सम्बंधित कुछ दवाएं भी मिली हैं। इंस्पेक्टर सचिन कुमार सिंह ने बताया कि कमरे में सोफे के पास ही अनीता की लाइसेंसी पिस्टल व एक खोखा पड़ा मिला है। पुलिस ने यह पिस्टल कब्जे में ले ली है, जिसे बैलेस्टिक जांच के लिए भेजा जाएगा। फोरेंसिक टीम ने शव का निरीक्षण करने के बाद घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए हैं।

पति को भेजा मैसेज.. सॉरी फॉर ऑल –
आईएएस उमेश सिंह ने पुलिस को बताया कि दोपहर 2 बजकर 22 मिनट पर अनीता ने उन्हें व्हाट्स एप पर एक मैसेज भेजा। इसमें लिखा था.. ‘सॉरी फॉर ऑल’। मैसेज के अंत में अनीता ने नमस्ते और गुडबाय का इमोजी (चिन्ह) भी भेजा था। मैसेज भेजने के आठ मिनट बाद ही कमरे से गोली चलने की आवाज हुई थी। उमेश ने पुलिस को इस व्हाट्स एप मैसेज का स्क्रीन शॉट भी दिया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि इस मैसेज से पहले अनीता ने कुछ अन्य मैसेज भी भेजे थे जिनमें निराशा का भाव है।