हरियाणा: पहाड़ दरकने से हुआ भीषण हादसा, आधा दर्जन वाहन सहित 10 के दबे होने की आशंका

हरियाणा। हरियाणा के भिवानी में नए साल के पहले दिन बड़ा हादसा हो गया। यहां डाडम खनन क्षेत्र में पहाड़ दरकने से आधा दर्जन वाहन सहित करीब पांच से दस लोगों के जमीन में दबने की आशंका है। बचाव कार्य के दौरान तीन लोगों को निकाला गया। वहीं कई गाड़ियां भी जमीन में दब गई हैं। फिलहाल यहां कई लोगों के दबने और घायल होने की सूचना है।

जानकारी के अनुसार भिवानी जिला के तोशाम विधानसभा क्षेत्र के तहत डाडम गांव खनन कार्यों के लिए जाना जाता है। आज सुबह करीबन सवा आठ बजे खनन कार्य के दौरान पहाड़ का एक बड़ा हिस्सा अचानक से दरक गया, जिसके चलते वहां खड़ी आधा दर्जन के करीब पोपलैंड मशीनें व डंफर दब गए। इसके साथ ही लगभग पांच से दस से अधिक लोगों के दबे होने का समाचार भी मिला है। वहीं प्रशासन राहत कार्यो में जुट गया है तथा पहाड़ दरकने के दौरान के मलबे को हटाकर लोगों की तलाश की जा रही हैं। हालांकि दबे हुए व्यक्तियों की संख्या को लेकर कुछ भी स्पष्ट आंकड़ा अभी सामने नहीं आ पाया है।

पुलिस प्रशासन ने पहाड़ दरकने वाले स्थान पर मीडिया कर्मियों व आम लोगों के जाने पर पाबंदी लगा दी है। घटनास्थल से दूर ही आम लोगों को रोका गया है। इस बारे में खानक-डाडम क्रैशर एसोसिएशन के चेयरमैन मास्टर सतबीर रतेरा ने बताया कि जिस समय यह घटना घटी, कोई खनन कार्य नहीं हो रहा था। खनन क्षेत्र दोनों तरफ से फोरेस्ट एरिया से घिरा हुआ है। फोरेस्ट एरिया क्षेत्र से हजारों टन का पहाड़ दरकर खनन क्षेत्र की तरफ आया, जिसमें अभी तक पांच वाहनों के दबने की पुष्टि हो पाई है। अब तक तीन लोगों को निकाला जा चुका है, दो व्यक्ति उपचाराधीन है। जबकि एक मजदूर की मौत हुई है।

गौरतलब है कि नववर्ष के साथ ही भिवानी जिला के लिए पहाड़ दरकने के साथ ही एक बुरी खबर सामने आई है। हालांकि खनन कार्य प्रदूषण के चलते प्रशासन द्वारा लंबे समय से बंद किया हुआ था। दो दिन पहले ही खनन कार्य के लिए बिजली के कनैक्शन प्रदूषण विभाग ने दिए थे, क्योंकि लंबे समय से प्रदूषण के कारण खनन कार्य पर रोक लगी हुई थी, जिसको लेकर खनन कार्यों से जुड़े लोग धरना-प्रदर्शन भी कर रहे थे।हरियाणा के कृषि मंत्री जे.पी.दलाल भी घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा, ‘फिलहाल मृतकों की सही संख्या नहीं बताई जा सकती। डॉक्टरों की टीम घटनास्थल पर पहुंच चुकी है। हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी ट्वीट करके लिखा कि वह स्थनीय प्रशासन के साथ संपर्क में हैं. बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है और घायल लोगों को अस्पताल ले जाया गया है। बताया जाता है कि शुक्रवार को ही यहां खनन कार्य शुरू किया गया था. इससे पहले प्रदूषण के चलते 2 महीने तक खनन कार्य बंद रहा था। फिलहाल पहाड़ दरकने के कारणों के बारे में पता नहीं चल पाया है।