UP में हिंदूवादी नेताओं को जान का खतरा, 10 से ज्यादा नेता रडार पर, खुफिया विभाग हुआ सक्रिय

लखनऊ | कानपुर के दो हिंदूवादी नेताओं के अलावा 10 से अधिक ऐसे नेता हैं, जिन्हें जान का खतरा है। इस संबंध में शहर पुलिस व खुफिया विभाग को इनपुट मिले हैं। इस पर आला अधिकारियों के अलावा एलआईयू जानकारी जुटा रही है।

खतरे के इनपुट की पुष्टि होती है तो पुलिस एहतियातन सुरक्षा मुहैया कराएगी। लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी और विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या के बाद शहर के दो हिंदूवादी नेताओं को सोमवार को सुरक्षा दी गई। इसमें भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष प्रकाश शर्मा व विहिप व बजरंग दल के पदाधिकारी रहे अवध बिहारी मिश्रा हैं। इनके अलावा शहर के 10 से अधिक हिंदू नेताओं को खतरा है। पुलिस व एलआईयू गोपनीय ढंग से सक्रिय होकर जानकारी जुटाने में लगी है। जो नेता किसी विवाद में रहे हैं या किसी तरह के भाषण देकर चर्चा में रह हैं, ऐसे नेताओं पर नजर है।

कई बिंदुओं पर जुटाई जा रही जानकारी-
जिन नेताओं को लेकर इनपुट मिला है, उनसे संबंधित कई बिंदुओं की जानकारी जुटा रही है। उनकी रंजिश किससे रही है। विरोधी कौन-कौन हैं। अगर कोई पुराना मामला दर्ज हुआ है तो उसकी वर्तमान स्थिति क्या हैं। दूसरा पक्ष कहां हैं। ये सभी जानकारी जुटाने के बाद आलाधिकारियों को रिपोर्ट भेजी जाएगी।