किसान आंदोलन के विरोध में उतरी हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची, बोलीं- ‘कृषि कानून वापिस हुए तो दिल्ली में करूंगी आमरण अनशन’

बरेली । प्रखर हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची ने कहा कि किसानों की आड़ में खालिस्तान की मांग करने वाले लोग जिहादी हैं। ऐसे लोगों की बातों में आने की जरूरत नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कानून वापस नहीं लेना चाहिए। यदि केंद्र सरकार किसान बिल वापस लेती है तो वह दिल्ली में आमरण अनशन करेंगी। साध्वी प्राची सोमवार को बरेली पहुंची थी। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पर हमला और सैकड़ों भाजपा नेताओं की पश्चिम बंगाल में एक ही नेता के इशारे पर हत्या कराई गई है। साध्वी प्राची ने कहा कि किसानों की आड़ में दलाल और आढ़ती प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों को बर्बाद कर रहे थे। किसानों को बरगला रहे हैं।

ममता के बाद कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए साध्वी प्राची ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए सोनिया गांधी, राहुल गांधी और फिर मैसेज वाड्रा है। उसके अलावा कोई नहीं… बीजेपी सिद्धांतवादी पार्टी है। बीजेपी में अमित शाह जी के बाद जेपी नड्डा राष्ट्रीय अध्यक्ष बने और अगला अध्यक्ष कौन होगा इसकी भी जानकारी किसी को नहीं है। राहुल गांधी कांग्रेस को बर्बाद करके अच्छा काम कर रहे हैं।

बता दें कि पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के हजारों किसान, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 26 नवंबर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पारित तीन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। इनका डर है कि नए कानूनों से उनकी आजीविका प्रभावित होगी।