अपने प्रतिद्दंदी इब्राहिम रेसी को हराकर हसन रूहानी बने ईरान के राष्ट्रपति 

तेहरान। ईरान में राष्ट्रपति चुनाव का चुनाव हसन रूहानी लगातार दूसरी बार जीत गए हैं. उन्होंने अपने प्रतिद्दंदी इब्राहिम रेसी को हराया है. हसन रूहानी ईरान में आर्थिक सुधारों के लिए जाने जाते हैं और वह इस पद के लिए लगातार दूसरी बार चुने गए हैं. इससे पहले राष्ट्रपति हसन रूहानी ने आज आधे से अधिक मतों की गणना के बाद भारी  बढ़त बना ली थी और तभी से उनकी जीत पक्की मानी जा रही थी. दो करोड़ 59 लाख मतों की गणना के बाद रूहानी ने एक करोड़ 46 लाख मत से आगे चल रहे थे.

जबकि उनके कट्टरपंथी प्रतिद्वंद्वी इब्राहिम रईसी को एक करोड़ एक लाख मत मिले थे. ईरान में राष्ट्रपति चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद आज सुबह से मतगणना शुरू हुई थी. यहां शुक्रवार को हुए मतदान में 70 फीसदी वोट पड़े थे. निवर्तमान राष्ट्रपति हसन रूहानी दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव मैदान में थे.  उनका मुख्य मुकाबला कट्टरपंथी मौलवी और पूर्व अभियोजक इब्राहिम रेसी से था, जो देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई के करीबी हैं.

यदि चुनाव में किसी भी उम्मीदवार को 50 फीसदी से अधिक वोट नहीं मिलते हैं तो अगले सप्ताह दूसरे दौर का मुकाबला होता. ईरान में 1985 से ही प्रत्येक निवर्तमान राष्ट्रपति का दोबारा चुनाव होता है, जब खामेनेई खुद दूसरे कार्यकाल के लिए निर्वाचित हुए थे. खामेनेई ने शुक्रवार सुबह आठ बजे मतदान शुरू होने के कुछ मिनट बाद ही अपना वोट डाला था. रूहानी ने उसके एक घंटे बाद वोट डाला. इस बार राष्ट्रपति चुनाव के लिए 5.4 करोड़ से अधिक लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करने के योग्य थे. देश के आंतरिक मामलों के मंत्रालय ने मीडिया को बताया कि शुक्रवार को हुए मतदान में चार करोड़ से अधिक लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. मतदान के लिए बड़ी संख्या में उमड़ी भीड़ को देखते हुए मतदान का समय पांच घंटे के लिए बढ़ा दिया गया था.