डेरा मामला : हरियाणा सरकार को हाईकोर्ट के निर्देश, जरूरत पड़ने पर हथियार चलाने से न करें संकोच

सतीश खंडेलवाल/चंडीगढ़|  साध्वी यौन शोषण मामले पर  डेरा प्रमुख पर फैसला सुनाया जाना है जिसको लेकर आज सुबह 9 बजे राम रहीम 800 गाड़ियों के काफिले के साथ सिरसा से पंचकूला के लिए रवाना हुए जो कि कुछ घंटों में पंचकूला पहुंच जाएंगे।
 हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को कल फटकार लगाते हुए सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए थे। हाईकोर्ट ने कहा था कि पंचकूला में इकट्ठे समथकों को वहां से हटाने की बात कही थी लेकिन अभी भी समर्थक वहां से नहीं हट रहे। वहीं हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को निर्देश देते हुुए कहा कि कानून व्यवस्था बनाने के लिए हथियार चलाने की आवश्यकता पड़े तो कोई संकोच न करें। हाईकोर्ट ने कहा कि फैसला आने के भी हालात में काबू बनाए रखें।
बता दे  बाबा राम रहीम पर आज को फैसला आएगा। राम रहीम सिरसा से 800 गाड़ियों के साथ निकले थे। उन्हें तीन बजे से पहले पंचकुला कोर्ट पहुंचना था। राम रहीम के हजारों की संख्या में भक्त पंचकुला पहले ही पहुंच चुके हैं। पुलिस को भीड़ के हिंसक होने की आशंका है। पंचकुला में मौजूद ज्यादातर समर्थकों के हाथ में डंडे आदि भी हैं।
पुलिस ने भीड़ को काबू करने की पूरी कोशिश की लेकिन कुछ हुआ नहीं। लोग जिसमें बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं वे वहां से हटने को तैयार नहीं थे। बाबा राम रहीम पर सीबीआई कोर्ट फैसला देगी। बाबा राम रहीम पर एक साध्वी ने बलात्कार का आरोप लगाया था। 2002 मई में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाते हुए डेरे की एक साध्वी ने गुमनाम पत्र प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भेजा था। इसकी एक प्रति पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को भी भेजी गई। वाजपेयी ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी।