गुजरात में भी UP के नतीजों को भुनाएगी BJP, नए मेयर कर सकते हैं प्रचार

उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव में ऐतिहासिक जीत से गदगद भारतीय जनता पार्टी अब नतीजों का फायदा गुजरात विधानसभा में भी उठाएगी. पार्टी के सभी नवनिर्वाचित महापौर गुजरात जाकर प्रचार कर सकते हैं. भाजपा ने पिछले दिनों सम्पन्न हुए नगरीय निकाय चुनाव में महापौर की 16 में से 14 सीटें जीती हैं और चुनाव में जीत हासित करने वाले सभी लोग मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात करेंगे.

भाजपा के प्रान्तीय महामंत्री विजय बहादुर पाठक ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि प्रदेश में भाजपा के सभी नवनिर्वाचित मेयर दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे. सभी पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता हैं और भाजपा जहां जरूरत पड़ेगी, वहां उनका उपयोग करेगी.

उन्होंने बताया कि इसके अलावा अमेठी की नवनिर्वाचित नगर पंचायत अध्यक्ष चंद्रमा देवी और जायस नगर पालिका के अध्यक्ष महेश प्रताप भी प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे. हालांकि कांग्रेस ने अमेठी नगर पंचायत अध्यक्ष पद के लिये अपना प्रत्याशी नहीं खड़ा किया था, लेकिन वहां भाजपा की जीत को क्षेत्रीय कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के लिये बड़ा झटका माना जा रहा है. कांग्रेस को जायस तथा गौरीगंज नगर पालिका अध्यक्ष पद के चुनाव में पराजय का सामना करना पड़ा.

यूपी निकाय चुनाव में जीत के बीजेपी के लिए गुजरात में क्या हैं मायने

वहीं, अमेठी और मुसाफिरखाना के नगर पंचायत के चुनाव में कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार नहीं खड़ा किया था. गुजरात विधानसभा चुनाव की गहमागहमी के बीच नेहरू-गांधी परिवार के गढ़ में भाजपा की जीत को बेहद महत्वपूर्ण और दूरगामी संदेश देने वाली माना जा रहा है.

उत्तर प्रदेश के नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनाव में जोरदार कामयाबी के बाद निकाय चुनाव में जीत को भाजपा की कामयाबी की हैट्रिक के तौर पर देखा जा रहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नगरीय निकाय चुनाव परिणामों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नीतियों का नतीजा करार दिया था.

प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि राज्य के नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा की जीत से मतदाताओं में सकारात्मक संदेश गया है. गुजरात में पूर्वी यूपी के मूल बाशिंदों की खासी तादाद है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले से ही गुजरात में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. अब नवनिर्वाचित महापौरों की कामयाबी की कहानियां भाजपा के चुनावी अभियान को और धार देंगी.

आपको बता दें कि भाजपा ने नगरीय निकाय चुनाव में अयोध्या, वाराणसी और गोरखपुर जैसे प्रतिष्ठित सीटों के साथ-साथ कुछ 14 नगर निगमों में महापौर पद पर कब्जा किया है. पहली बार अपने चुनाव चिन्ह के साथ मैदान में उतरी बसपा ने अलीगढ़ और मेरठ के महापौर का चुनाव जीता है.