UP : बदायू में निर्भया कांड जैसी हैवानियत, मंदिर में महिला से सामूहिक बलात्कार, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस की खुली पोल

बदायूं | यूपी में पुलिस की हैवानियत का मामला सामने आया है | सामूहिक बलात्कार की पीड़िता के मामले को हादसा मानकर कार्यवाही की कोशिश की लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पुलिस की पोल खुल गयी | बदायूं जिले के उघैती इलाके में रविवार रात एक मंदिर में महिला की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सनसनीखेज खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक महिला के साथ न सिर्फ सामूहिक दुष्कर्म किया बल्कि उसके प्राइवेट पार्ट में रॉड डाल दी, जिससे उसका आंतरिक हिस्सा तक फट गया।  आरोपियों ने  महिला का पैर और एक पसली तोड़ दी थी। उसके शरीर का सारा खून बह जाने से उसकी मौत हुई। सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने मामले को दबाने की कोशिश की लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद आई खबर से सनसनी फ़ैल गयी है |

खबर के बाद उघैती पुलिस ने धर्मस्थल के पुजारी सत्यनारायण दास, मेवली निवासी वेदराम और यशपाल के खिलाफ हत्या व दुष्कर्म के आरोप में एफआईआर दर्ज कर ली है। फिलहाल, सभी आरोपी फरार हैं। थाना पुलिस ने मामले को हादसे का रूप देने की कोशिश की थी।  एफआईआर के मुताबिक महिला रविवार शाम धर्मस्थल पहुंची थी। सात घंटे बाद यानी रात 12 बजे पुजारी सत्यनारायण दास, वेदराम और यशपाल उसे अर्द्धनग्न हालत में घर के बाहर फेंक गए। उसके प्राइवेट पार्ट से खून बह रहा था। उसका एक पैर टूटा हुआ था। परिजन ने तुरंत पुलिस को सूचना दी थी, लेकिन पुलिस सोमवार दोपहर तक मौके पर नहीं पहुंची।  बाद में पुलिस ने मामला पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर टाल दिया। मंगलवार दोपहर बाद महिला के शव का पैनल में पोस्टमार्टम कराया गया। महिला के शव की हालत देखकर खुद चिकित्सक तक हैरान रह गए। 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। उसके प्राइवेट पार्ट में रॉड डाली गई, जिससे अंदरूनी हिस्सा फट गया। उसकी बाईं सातवीं पसली टूटी हुई मिलीं और बायां फेफड़ा भी फटा हुआ था। इसके अलावा उसका बायां पैर टूटा हुआ मिला है जो महिला के साथ हुई हैवानियत की कहानी बयां कर रहे थे।