पूर्व सांसद सावित्रीबाई फुले ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा, बनाएंगी अपनी पार्टी

लखनऊ | लोकसभा चुनाव 2019 के पहले कांग्रेस की सदस्यता लेने वाली पूर्व भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व पर अपनी आवाज न सुने जाने का आरोप लगाया। सावित्री ने कहा कि वह खुद की पार्टी बनाएंगी और दलितों की आवाज उठाएंगी।

सावित्री बाई फुले ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। भारतीय जनता पार्टी छोड़ कांग्रेस गईं सावित्री बाई फुले ने एक साल के भीतर ही कांग्रेस का साथ छोड़ दिया और ऐलान किया कि अब वह अपनी खुद की पार्टी बनाएंगी। बहराइच की पूर्व सांसद सावित्री बाई फुले ने 6 दिसंबर 2018 को लखनऊ में भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफे का ऐलान किया था। हालांकि, उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा पूरा किया था।

बहराइच की पूर्व सांसद सावित्री बाई फुले ने 2012 में बीजेपी के टिकट पर बलहा (सुरक्षित) विधानसभा सीट से चुनाव जीता था और 2014 में उन्हें सांसद का टिकट मिला और वह संसद पहुंची थीं। वह बीजेपी की दलित महिला चेहरा थीं, बाद में कांग्रेस में शामिल हुई थीं। छह साल की उम्र में उनकी शादी कर दी गई थी लेकिन उनकी विदाई नहीं हुई। इसके बाद बड़े होने पर उन्होंने संन्यास ले लिया।