सपा सरकार में DGP रहे जगमोहन पर योगी सरकार में मुकदमा, गायत्री प्रजापति ने बेची थी जमीन

लखनऊ | राजधानी लखनऊ के गोसाईंगंज में शहीद पथ के पास दो दिन पहले करोड़ों की जमीन पर कब्जे को लेकर हुए विवाद में पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव के खिलाफ गोसाईगंज थाने में गुरुवार को एफआईआर दर्ज कर ली गई है। इस मामले में पूर्व मंत्री बलराम सिंह यादव के बेटे विजय सिंह यादव की तहरीर पर मुकदमा लिखा गया है। इस मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने सख्त कार्रवाई की बात कही थी।

शहीद पथ के पास हरिहरपुर गांव में पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की जमीन है। इसमें से तीन बीघा जमीन पूर्व डीजीपी जगमोहन यादव ने बिन्नी इंफ्राटेक के नाम से खरीदी है। वहीं करीब इतनी ही जमीन पूर्व मंत्री बलराम यादव के बेटे विजय यादव ने भी ली थी। दोनों पक्ष सड़क से लगी जमीन पर अपना हक जता रहे थे। मंगलवार को पूर्व डीजीपी अपने लोगों के साथ जमीन पर कब्जा लेने पहुंचे थे तभी विजय यादव भी अपने लोगों के साथ वहां पहुंच गया था। दोनों पक्षों के बीच काफी हंगामा हुआ था। उस समय एएसपी विधानसभा राजेश श्रीवास्तव और सीओ गोमतीनगर अवनीश्वर चन्द्र ने काम रुकवा दिया था। एसटीएम को पैमाइश करने के आदेश दिये गये थे।

डीजीपी ओपी सिंह ने घटना के दिन ही इस बवाल का संज्ञान लिया था। इसके बाद उन्होंने पूरा ब्योरा निकलवाया था। इसके बाद ही इस मामले में काफी दबाव के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली। विजय सिंह की तहरीर में इस मामले में जगमोहन यादव व उनके साथियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 147,148,419,420,447,504 और 506 के तहत एफआईआर लिखी गई है। डीजीपी ने कहा कि जमीन मामले में बवाल करने वालों से सख्ती से निपटा जायेगा।