योगी सरकार की बड़ी कार्यवाही, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खिलाफ FIR

लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खिलाफ गौतमपल्ली थाना में महामारी एक्ट और धारा 144 के उल्लंघन की एफआईआर दर्ज कराई गई है। इसके अलावा राजधानी के अलग-अलग इलाकों में समाजवादी पार्टी व प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की तरफ से आयोजित धरना-प्रदर्शन में मामले दर्ज किए गए।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इस दौरान 28 लोगों के खिलाफ शांतिभंग के तहत कार्रवाई भी की गई। अखिलेश यादव को पुलिस ने विक्रमादित्य मार्ग स्थित समाजवादी पार्टी के प्रदेश मुख्यालय से निकलते ही रोकने का प्रयास किया लेकिन वह पुलिस से धक्का-मुक्की करते हुए बंदरियाबाग चौराहा पहुंच गए और वहां धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान गोल्फ क्लब तिराहा से वीमेन पॉवर लाइन 1090 चौराहा तथा हजरतगंज के अटल चौक से परिवर्तन चौक तक जाम लग गया। विधानसभा भवन के पीछे के रास्ते पर भी यातायात व्यवस्था ध्वस्त हो गई। यातायात पुलिस के अधिकारियों ने पार्क रोड व कैंट की तरफ से वाहनों को डायवर्ज कर आगे भेजा।

अधिकारियों ने बताया कि कमिश्नरेट में धारा 144 लागू थी इसके बावजूद धरना-प्रदर्शन करने पर पूर्व मुख्यमंत्री समेत उनके साथ मौजूद अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सभी को हिरासत में लेकर पुलिस ने इको गार्डन भिजवा दिया। देर शाम पूर्व मुख्यमंत्री व उनके साथ लाए गए लोगों को छोड़ दिया गया। काकोरी में भी समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों ने धरना-प्रदर्शन कर सड़क जाम करने का प्रयास किया। वहां भी पुलिस ने कई पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन और महामारी एक्ट समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है।