मुजफ्फरनगर से किसानों का BJP और योगी सरकार के खिलाफ शंखनाद, जयंत चौधरी बोले- ‘किसानों-दलितों के लिए 100 लाठी खाने को तैयार’

मुजफ्फरनगर । यूपी में हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से मिलने जा रहे जयन्त चौधरी पर लाठीचार्ज भाजपा और योगी सरकार को भारी पड़ रहा है । मुजफ्फरनगर में लाखों किसानों ने लोकतंत्र बचाओ पंचायत करके भाजपा और योगी सरकार को सबक सिखाने का संकल्प लिया है । मुजफ्फरनगर में उमड़ा सैलाब भाजपा के खिलाफ गुस्से को साफ बयान कर गया है । पंचायत में हाथरस में वाल्मीकि समाज की युवती से गैंगरेप और हत्या, कृषि कानून और किसानों की समस्याएं पंचायत का मुद्दा रहीं । लोकतंत्र बचाओ पंचायत को INLD, कांग्रेस और सपा सहित खाप पंचायतों और भाकियू का बड़ा समर्थन हासिल हुआ । वहीं मुजफ्फरनगर के अतिरिक्त रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी के आह्नान पर मुजफ्फरनगर, शामली, बागपत, बिजनौर, सहारनपुर और मेरठ आदि जनपदों से भारी संख्या में किसान शामिल हुए।

पंचायत में खाप चौधरियों के साथ आने के कारण जाट समाज के लोगों ने भी बड़ी संख्या में इस रैली में भाग लिया। रैली को सम्बोधित करते हुए जयंत चौधरी ने कहा कि किसानों के सम्मान की खातिर वह अहंकारी सरकार की एक नहीं सौ लाठियां खाने को भी तैयार हैं। इसका जवाब जनता इन सरकारों से लेगी। उन्होंने रैली में जुटे किसानों के साथ ही विपक्षी दलों और सामाजिक संगठनों के लोगों का आभार भी जताया। जयंत चौधरी ने रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि लोकतंत्र बचाओ के आह्नान पर आने वाले हर व्यक्ति का मैं आभारी हूं, ये लोग यहां पर इसलिए आये हैं कि वो जानते हैं, जो लाठी चलाई गई वह भाजपा की देश और प्रदेश से किसान राजनीति खत्म करने की साजिश है। उन्होंने कहा कि सरकार याद रखे नौजवानों का खून गरम है। मुजफ्फरनगर ने बड़े आंदोलन देने का काम देश के लिए किया है। बड़े बड़े बादशाहों को यहां के लोगों ने रास्ता दिखाया है। कई आंदोलन किये गये हैं।

जयंत चौधरी ने कहा कि यहां आए लोग मेरे अपने लोग हैं, परिवार के लोग हैं, जबतक ये हैं मुझे कुछ नहीं होने देंगे । उन्होंने सीएम योगी पर निशाना साधते हुए कहा कि बाबा जी मेरी आपसे कोई व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह जी से दलितों, वंचितों और शोषितों की आवाज उठाना सीखा है, हम कीमत पर आवाज़ उठाएंगे ।