किसान क्रांति यात्रा: दिल्ली के दर पर किसानों का डेरा, सीमाएं सील

दिल्ली|हरिद्वार से नौ दिन पूर्व शुरू हुई किसान क्रांति यात्रा ने दिल्ली के दर पर डेरा डाल दिया है। किसान दिल्ली कूच पर अड़े हुए हैं मगर प्रशासन ने उन्हें राजधानी में प्रवेश की अनुमति नहीं दी। पुलिस ने सोमवार सुबह ही गाजीपुर और महाराजपुर बॉर्डर को सील करने के साथ भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात कर दिया। देर शाम को किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की।
कर्जमाफी सहित करीब दर्जनभर मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के नेतृत्व में लगभग 30 हजार किसान दिल्ली बॉर्डर से चंद कदम दूर लिंक रोड़ पर बने तीन फार्म हाउस और आसपास के इलाके में डटे हुए हैं। पुलिस ने किसानों को गाजियाबाद के नेहरू नगर हाउस तथा हज हाउस व साहिबाबाद सब्जी मंडी में ठहराने की कोशिश की थी, लेकिन वह नहीं माने। सुबह किसानों ने मुरादनगर से गाजियाबाद का रुख किया। राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पर पुलिस और प्रशासन ने किसानों को कमला नेहरू नगर मैदान ले जाने का प्रयास किया, लेकिन किसानों ने मना कर दिया। एक घंटे तक दोनों पक्षों में खींचतान चलती रही। आखिरकार पुलिस को उनके आगे झुकना पड़ा और किसानों ने मेरठ रोड से जीटी रोड के लिए कूच कर दिया। इसके बाद प्रशासन ने एक बार फिर हज हाउस पर किसानों को रुकने के लिए प्रस्ताव दिया, लेकिन उन्होंने यहां भी रुकने से इंकार कर दिया। पुलिस ने आनन-फानन में मोहननगर से लिंक रोड पर यातायात रोक दिया। इसके बाद किसानों को साहिबाबाद सब्जी मंडी पर रोकने के लिए प्रस्ताव दिया गया, मगर यहां भी उनकी नहीं चली। हालांकि पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों ने अंतत: नरेश टिकैत और राकेश टिकैत को लिंक रोड पर बने फार्म हाउस में ठहरने के लिए राजी लिया। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसानों से कहा कि वह रातभर फार्म हाउस में आराम करें और सुबह सात बजे दिल्ली के लिए कूच किया जाएगा।