MP : फायरिंग में 6 की मौत से किसान बेकाबू, रेल पटरियां उखाड़ी, वाहन फूंके

मंदसौर। जिले में किसानों के उग्र आंदोलन में कल छह लोगों की मौत के बाद लगाए गए कर्फ्यू के बावजूद भी आज जिले के कई हिस्सों में प्रदर्शनकारियों ने उग्र प्रदर्शन किया। जिले के मल्हारगढ़ में उग्र आंदोलनकारियों ने पटरियों को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिससे नीमच-मंदसौर से लेकर राजस्थान के चित्तौडगढ़ के बीच का रेल यातायात प्रभावित होने की खबर है।

आपको बताते चलें कि मंगलवार को पिपल्यामंडी में किसानों के उग्र आंदोलन और पुलिस-प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प के बाद हुई कथित तौर पर पुलिस की गोलीबारी में 6 किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद पिपल्यामंडी समेत मंदसौर जिला मुख्यालय और कई स्थानों पर कर्फ्यू लगा दिया गया था, इसके बावजूद आज सुबह लोगों को समझाने बरखेड़ापंत पहुंचे कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह के साथ आंदोलनकारियों ने मारपीट तक कर दी। इसका वीडियो भी सामने आया है। इसमें कुछ लोग उनके साथ मारपीट और दुर्व्यवहार कर रहे हैं। सुबह के इस घटनाक्रम के बाद कई स्थानों से आगजनी की खबरें हैं। गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह तोड़फोड़ की, वहीं 8-10 वाहिनों को आग के हवाले कर दिया। बारखेड़ा इलाके में पुलिस पर पथराव की भी खबर है। इस बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए इलाके में रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात कर दिया गया।  उज्जैन में भी पुलिस पर लोगों ने पथराव किया। जिले में एक एटीएम, एक फैक्ट्री, एक टोल प्लाजा पर पथराव और आग लगाने की कोशिश की सूचना मिल रही है। मंगलवार की हिंसा के बाद आज राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ और कांग्रेस ने मध्यप्रदेश बंद का आह्वान किया।  प्रदेश के इंदौर, उज्जैन, नीमच, धार, हरदा, बड़वानी, झाबुआ, विदिशा में बंद का व्यापक, वहीं सागर, रतलाम, सीहोर और जबलपुर समेत कई क्षेत्रों में बंद का मिला-जुला असर रहा। राजधानी भोपाल समेत होशंगाबाद और सतना के अधिकतर बाजार खुले रहे। वहीं शिवपुरी में कांग्रेस गुरुवार को बंद का आयोजन करेगी। इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों में भारी गुस्सा देखा जा रहा है। मंदसौर में प्रदर्शनकारियों ने कलेक्टर स्वतंत्र सिंह के साथ धक्का-मुक्की की और उनके कपड़े तक फाड़ दिए। प्रदर्शनकारियों ने उन्हें और उनके साथ मौजूद अन्य अधिकारियों को वहां से खदेड़ दिया। प्रदर्शनकारी कलेक्टर और एसपी के इतनी देर से पहुंचने को लेकर नाराज थे। हालांकि कलेक्टर ने कहा कि किसानों के खिलाफ कोई फायरिंग नहीं की गई है।