दो दिन के भीतर सभी अधिकारी स्वयं जाकर बूथों का करे निरीक्षण- मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल

शशांक मिश्रा:-

इलाहाबाद मण्डल के सभी जनपदों में स्थानीय नगर निकाय चुनाव के मद्देनजर प्रशासन शान्तिपूर्ण और व्यवस्थित मतदान प्रक्रिया सुनिश्चित कराने के लिए कमर कस चुका है। छोटी-छोटी कमियों को समय से दूर कर लेने और चुनाव सम्पन्न हो जाने तक व्यवस्था पर कड़ी नजर रखते हुए हमेशा सतर्क रहने का मंत्र इलाहाबाद प्रशासन को देते हुए इलाहाबाद के मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल ने कहा कि व्यवस्था और शान्ति बनाये रखने की चुनौती के दृष्टि से यह चुनाव भी उतना ही संवेदनशील है जितने बड़े चुनाव होते है। अतः निष्पक्ष और शान्तिपूर्वक निर्वाचन सम्पन्न कराने के लिए प्रशासन और पुलिस के अधिकारी सामाजिक और भौ गोलिक रूप से हर छोटी से छोटी व्यवस्था पर नजर रखे और सतर्क रहकर कार्य करे।

मण्डलायुक्त इलाहाबाद मण्डल के अन्य जनपदों में स्वयं तथा पुलिस के आईजी जोन के साथ सभी जनपदों में जाकर पिछले सप्ताह से निर्वाचन की तैयारियों का जायजा लेते रहे तथा परीक्षण करते रहे है। इसी क्रम में मण्डलायुक्त तथा आईजी जोन ने इलाहाबाद जनपद के सामान्य निर्वाचन की तैयारियों का जायजा कलेक्ट्रेट स्थित संगम सभागार में लिया, जिसमें जिलाधिकारी सुहास एल.वाई., एसएसपी आकाश कुलहरि के अलावा जनपद के सभी प्रमुख अधिकारी, पुलिस प्रमुख एवं सम्बन्धित क्षेत्राधिकारी मौजूद थे। बैठक मे मण्डलायुक्त ने साऱी तैयारी पूरा कर लिये जाने की दिये जाने पर मण्डलायुक्त ने एक-एक कर व्यवस्थाओं की गहराई से छानबीन शुरू की तथा सभी नगर पंचायतों से सम्बन्धित एडीएम एवं सीओ से कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में प्रारम्भिक तैयारियों का विस्तृत ब्यौरा लिया। मण्डलायुक्त ने सरसरी तौर पर दिये गये विवरणो पर क्षेत्रिय प्रशासनिक अमले को सचेत करते हुए यह हिदायत दी कि इस चुनाव को हलके में न ले तथा इसकी संवेदनशीलता को गहराई से समझे। अधिकारी इस बात पर ध्यान दे कि चुनाव में केवल पोलिंग पार्टियों के आने-जाने की व्यवस्था सुनिश्चित कर लेने का केवल प्रबंधकीय कार्य नही है इस पूरी प्रक्रिया में कई सामाजिक संतुलन और कानून व्यवस्था प्रभावित होती है जिसे हर हाल में सुनिश्चित रखना प्रशासन का प्राथमिक कर्तव्य है। उन्होंने जिलाधिकारी, एसएसपी और अपर जिलाधिकारी प्रशासन को इस बात पर नजर ऱखने को कहा कि हर संवेदनशील क्षेत्र मे पहले से ही स्वतः संज्ञान लेकर संदिग्धों एवं उपद्रवियों को चिन्हित करते हुए निरोधात्मक कार्रवाही पहले से प्रारम्भ कर दी जाय। इसके लए उन्होंने सभी मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों को समन्वय बैठाकर कार्य करें जिलाधिकारी एवं अपर जिलाधिकारी प्रशासन, एसपी गंगापार को यह जिम्मेदारी दी कि वे इसकी नियमित मानिटरिंग करे कि सम्बन्धित क्षेत्र में असलहे पूरी तरह जमा कराये जाय, उपद्रवियों पर पहले से नजर ऱखी जाय तथा उनके विरूद्ध निरोधात्मक कार्रवाही किये जाने में किसी प्रकार का संकोच न किया जाय। मण्डलायुक्त ने एक सप्ताह के भीतर जमीन की तह तक इन व्यवस्थाओं पर नियंत्रण कर लेने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रत्येक अधिकारी को यह जिम्मेदारी दी कि वे अपने क्षेत्र के समस्त बूथों का स्वयं जाकर दो दिन के भीतर मतदान की पूरी तैयारी का रिहर्सल कर ले। बूथ पर पूरी व्यवस्था रैकी पहले से कर ले तथा मतदान केन्द्र पर पूरे समय वीडियोग्राफी की व्यवस्था अवश्य रखे।

मण्डलायुक्त ने कहा कि कानून व्यवस्था संभाले रखने हेतु अधिकारी अपना अधिसूचना तंत्र स्वयं निर्मित कर व्यवस्था पर नजर रखे। महिला बहुल मतदान केन्द्रो पर महिला मतदाताओं द्वारा किसी प्रकार की गड़बड़ी की परिस्थिति में उनकी पहचान पत्र के आधार पर उनकी पहचान अवश्य सुनिश्चित करायी जाय तथा इसके लिए महिला पुलिस कर्मियों की व्यवस्था ऐसे हर बूथ पर अवश्य रखी जाय।

बैठक को सम्बोधित करते हुए आईजी रमित शर्मा ने कहा कि संवेदनशील क्षेत्रों में व्यवस्था का संचालन की जिम्मेदारी केवल थानाध्यक्ष की नही बल्कि उनके नियंत्रक सर्किल अधिकारी की बराबर होगी। उन्होंने पुलिस कर्मियों को हिदायद देते हुए कहा कि अपनी कार्यशैली में तेजी लाये तथा पहले से यह निर्धारित कर ले कि किस बूथ पर किस क्षेत्र मे कितने पुलिस बल की आवश्यकता है। उन्होंने इस निर्वाचन में बाहर से लगभग 1000 पुलिस बल के आने की सम्भावना बतायी जिसके लिए ठहरने एवं शौचालय इत्यादि की व्यवस्था करने के लिए स्थानीय अधिकारियों को निर्देशित किया। इसके साथ उन्होंने य़ह भी निर्देश दिये कि हर मतदान केन्द्र पर न्यूनतम एक पुलिस कर्मी स्थानीय पुलिस का अवश्य हो।

मण्डलायुक्त ने मतदान की पूरी व्यवस्था के साथ-साथ मतगणना की व्यवस्था में अतिरिक्त मतगणना टेबल बढ़ाकर इस प्रक्रिया को तय समय में पूरा कर लेने के निर्देश दिये।