अलीगढ : DM & SSP के प्रयासों से अमन की पटरी पर लौटा शहर, माहौल बिगाड़ने वालो की तलाश शुरू

अलीगढ | शहर में तेजतर्रार एसएसपी राजेश पाण्डेय और जिलाधिकारी ऋषिकेश भाष्कर यशोद के प्रयासों से शुक्रवार रात्रि को हुए बवाल के बाद अलीगढ फिर पटरी पर लौट आया है | एसएसपी और डीएम ने खुद बाजार खुलवाए और सुरक्षा के प्रति सभी को आश्वस्त किया | विवाद की जड़ बने अवैध निर्माण को भी हटा दिया गया है |  यहां धर्मस्थल की छत से रात भर मजदूर लगवाकर पुलिस प्रशासनिक अमले ने गुंबद भी उतरवा दिए और शनिवार को बाजार सामान्य दिनों की तरह खुला। हां, सुबह उस वक्त सराफा चौक में जरूर कुछ दुकानदारों ने हंगामा किया, जब वह दुकान खोलने पहुंचे और उन्हें उनकी दुकानों के विद्युत मीटर, चौक में लगे सीसीटीवी और कुछ दुकानों के ताले टूटे मिले। मगर पुलिस अधिकारियों ने उन्हें समझाकर शांत कराया। कार्रवाई का आश्वासन दिया और दुकानें खुलवाईं। इस पूरे प्रकरण में अब तक दो मुकदमे पुलिस की ओर से दर्ज कर लिए गए हैं, जिनमें धर्मस्थल कमेटी के पदाधिकारी नामजद हैं, जबकि दो तहरीर मीटर, सीसीटीवी व ताले तोड़ने के संबंध में दुकानदारों की ओर से दी गई हैं।डीएम और एसएसपी पल पल की अपडेट ले रहे हैं |
फूल चौराहा पर धर्मस्थल की तीसरी मंजिल पर गुंबद निर्माण को लेकर शुक्रवार को उस समय आपित्त हुई थी, जब गुंबद पड़ोसी राजकुमार वर्मा की दुकान की ओर निकलती देखी गई। हालांकि शाम को आपत्ति के बाद भीड़ एकत्रित होने पर और पुलिस प्रशासनिक अमले के पहुंचने पर दोनों पक्षों में खुद ही कमेटी की सहमति से गुंबद हटाने पर बात बन गई थी। मगर बाद में धर्मस्थल गिराए जाने की भ्रामक खबरों ने माहौल बिगाड़ दिया और ऊपरकोट से आई भीड़ ने धार्मिक नारेबाजी करते हुए पुलिस को निशाना बनाकर पथराव फायरिंग कर दी थी। यह भीड़ सराफा चौक वाले रास्ते से आई थी। इसके बाद पुलिस ने भी बल प्रयोग व आंसू गैस के गोले और हवाई फायरिंग से भीड़ को रोका था। इस घटनाक्रम के बाद अचानक इलाके व आसपास का माहौल तनावपूर्ण हो गया था। दहशत में आसपास के बाजार बंद हो गए थे। शहर भर में अफवाहों का बाजार माहौल बन गया था। इसके बाद रात में ही शहर विधायक संजीव राजा व मेयर शकुंतला भारती आदि ने पहुंचकर मौके पर गुंबद निर्माण पर आपत्ति जताते हुए उसे सुबह छह बजे तक हटाने की चेतावनी दे दी थी।
इस चेतावनी के बाद रात भर पूरे इलाके की किलेबंदी कर पुलिस प्रशासनिक अमले ने नगर निगम के मजदूरों की मदद से गुंबदों को गिरवा दिया। सुबह साढ़े छह बजे विधायक को गुंबद गिराए जाने की सूचना दे दी गई। इसके बाद सब कुछ सामान्य था। दस बजे करीब डीएम ऋषिकेश भाष्कर याशोद, एसएसपी राजेश पांडेय इलाके का जायजा लेने पहुंचे और वहां मौजूद दुकानदारों से दुकान खोलने की अपील की। इसके बाद दुकानें खुलने लगीं। मगर एहतियातन पुलिस व आरएएफ तैनात रखी गई। इसी बीच सराफा चौक में जब दुकानदार पहुंचे तो यहां दुकानदारों ने देखा कि एक दर्जन के करीब दुकानें ऐसी थीं, जिन पर किसी का बिजली मीटर, किसी का ताला टूटा था और सीसीटीवी भी टूटे पड़े थे। इस पर उन्होंने नाराजगी जताई। मगर बाद में उन्हें कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत किया गया।
अलीगढ के एसएसपी राजेश पाण्डेय ने बताया कि अब सराफा इलाके में माहौल सामान्य है। दो मुकदमे दर्ज कर लिए गए हैं, सीसीटीवी से आरोपी चिह्नित किए जा रहे हैं। गुंबद को भी हटवा दिया गया है। आरोपियों पर सख्ती से कार्रवाई होगी।