लखनऊ के PGI से शाहजहांपुर जेल भेजे गए चिन्मयानंद

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं यौन उत्पीड़न के आरोपी स्वामी चिन्मयानंद को सोमवार शाम लखनऊ स्थित संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (पीजीआई) से छुट्टी दे दी गई। इसके बाद चिन्मयानंद को शाहजहांपुर जेल भेज दिया गया है।

पीजीआई द्वारा जारी स्वास्थ्य बुलेटिन में कहा गया कि चिन्मयानंद को सोमवार देर शाम 6:30 बजे पीजीआई के हृदय रोग विभाग से डिस्चार्ज कर दिया गया है। इस बारे में जब पीजीआई के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अमित अग्रवाल से बात की गई तो उन्होंने चिन्मयानंद को अस्पताल से छुट्टी मिलने की पुष्टि की।

चिन्मयानंद को 23 सितंबर को सीने में दर्द तथा निम्न रक्तचाप की शिकायत के बाद संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया था। उनकी एंजियोग्राफी की गई लेकिन कोई ब्लॉकेज नहीं पाया गया। स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्याओं के कारण वह अब तक पीजीआई में ही भर्ती थे।

चिन्मयानंद की जमानत याचिका खारिज
सोमवार को दुराचार के आरोपी चिन्मयानंद की जमानत याचिका जिला जज की अदालत ने खारिज कर दी। जज ने रंगदारी मांगने की आरोपी छात्रा की भी जमानत अर्जियां नामंजूर कर दीं। जिला सत्र न्यायालय के शासकीय अधिवक्ता अनुज कुमार सिंह ने बताया कि जिला एवं सत्र न्यायालय में स्वामी चिन्मयानंद की जमानत की अर्जी पर सुनवाई हुई जिसे जिला न्यायाधीश रामबाबू शर्मा ने सुना इसके अलावा स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने की आरोपी पीड़ित छात्रा की भी जमानत याचिका पर सुनवाई की गई। उन्होंने बताया कि दोनों की जमानत याचिका को जिला सत्र न्यायालय ने निरस्त कर दिया है। वहीं, स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया की अब वह मामले की अपील इलाहाबाद उच्च न्यायालय में करेंगे।