बुलंदशहर : गोडसे की नहीं गाँधी की विचारधारा से ही देश का विकास संभव है – दिनेश गुर्जर

अमित शर्मा/बुलंदशहर | समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव एवम प्रदेश अध्यक्ष अखिल भारतीय गुर्जर महासभा दिनेश गुर्जर के नेतृत्व में  गुलावठी आवास पर अहिंसा की पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी व गुदड़ी के लाल किसानों गरीबों के मसीहा पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयन्ती पर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन  हुआ | जहाँ दोनों के जीवन पर  प्रकाश डाला गया  और उनके आदर्शों पर चलने  का संकल्प लिया |

प्रदेश सचिव दिनेश गुर्जर ने अपने सम्बोधन में कहा कि दोनों महापुरुषों के जन्मदिवस पर देश को संकल्प लेना चाहिए कि हम उनके आदर्शो को अपनाएंगे | देश के दोनो महान व्यक्ति जिनमे एक अहिंसा का पुजारी है  और दूसरा किसान मजदूर जवान की बात करने वाला था | दोनों ने हमेशा सभी को साथ लेकर चलने की बात की लेकिन आज  विचारधारा की  जंग चल रही है,  ऐसा लगता है कि हर एक व्यक्ति अपने को महान दिखाने की कोशिश में लगा हुआ है |   देश का आमजन  यह तय नहीं कर पा रहा है कि आखिर वो कौन सी विचारधारा है जो व्यक्ति को महान बनाती है |  क्या गांधी और गोडसे की विचारधारा मिल सकती है  ? ये सोचने की जरूरत है और तय करना होगा कि आखिर अखंड भारत का भविष्य कहा सुरक्षित है ? हमें गोडसे की विचारधारा छोड़ गाँधीवादी विचारधारा को अपनाना होगा | गाँधी के आदर्शो पर चलकर ही देश का विकास संभव है |

उन्होंने कहा कि वर्तमान में  एक ख़ास विचारधारा का विरोध करने पर देशद्रोही तक कहा जा रहा है | गांधीवादी सोच और शास्त्री जी की सादगी पर चलकर ही देश का विकास किया जा सकता है | इस अवसर पर सपा  नेता तरुण अग्रवाल, मीडिया प्रभारी अमित यादव ,सुनील वर्मा, शेर सिंह रावत , कबीर अल्वी, इस्लामुद्दीन मेवाती, रवि कुमार, देवेंद्र पंडित, अयूब मालिक आदि नेतागण मौजूद रहे।