‘आप’ ने लगाई कुमार के ‘विश्‍वास’ पर झाड़ू, अमानतुल्लाह का कद बड़ा

नई दिल्‍ली। आम आदमी पार्टी से निलंबित विधायक अमानतुल्लाह खान को विधानसभा की आचरण समिति के सदस्य, अल्पसंख्यक कमेटी के अध्यक्ष समेत सात कमेटियों में जगह मिली है वहीं विश्वास के करीबी माने जाने वाले कई विधायकों का कद घटा दिया गया है।
इससे साफ है कि कुमार विश्वास व अमानतुल्लाह खान के बीच समझौते के बावजूद आम आदमी पार्टी (आप) में शीतयुद्ध जारी है। इसकी एक बानगी बृहस्पतिवार को गठित समितियों में देखी गई।
दस्तावेज के मुताबिक विधानसभा की नियम समिति से अलका लांबा, भावना गौर, सोमनाथ भारती को हटा दिया गया है। भारती अब विशेषाधिकार कमेटी के अध्यक्ष भी नहीं रहेंगे। उनकी जगह इसकी जिम्मेदारी कैलाश गहलोत को दी गई है। भारती को प्राइवेट मेंबर बिल्स एवं रेगुलेशन कमेटी से भी बाहर कर दिया गया है जबकि अमानतुल्लाह खान पहले की तरह कमेटी में बने रहेंगे। इसके अलावा सामान्य मामलों, सवाल व संदर्भ कमेटी समेत दूसरी कमेटियों से भावना गौड़ को हटा दिया गया है। कमेटियों से निकाले गए विधायकों के बारे में विवाद के दौरान कहा गया था कि वे कुमार विश्वास के संपर्क में हैं।
इन विधायकों ने विश्वास से मुलाकात भी की थी। पार्टी ने निलंबित अमानतुल्लाह को विधानसभा की आचरण कमेटी में सदस्य बनाया गया है जबकि वह पहले की तरह अल्पसंख्यक कमेटी के अध्यक्ष बने रहेंगे। इसके अलावा पूर्व मंत्री संदीप कुमार और असीम अहमद खान की कमेटियों में वापसी हुई है।
सीडी कांड में फंसे संदीप कुमार को एससी/एसटी कल्याण कमेटी में जगह मिली है। असीम लाइब्रेरी कमेटी में होंगे। खास बात यह है कि विश्वास समर्थक सभी विधायकों को लाइब्रेरी कमेटी में डाला गया है। दिल्ली विधानसभा की कमेटियों में हुए इस फेरबदल को नेताओं के पद बढ़ने और घटने से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि, कमेटियों का गठन विधानसभा अध्यक्ष करते हैं।
-एजेंसी