चौधरी अजित सिंह की श्रद्धांजलि सभा में उमड़ा सैलाब, RLD अध्यक्ष जयंत चौधरी बोले- ‘आपकी उम्मीद और आशाओं को टूटने नहीं दूंगा’

मेरठ | रालोद के सुप्रीमो जयंत चौधरी अब चौधरी जयंत कहलायेंगे | खाप पंचायतों ने चौधरी अजित सिंह के निधन के बाद उन्हें अब पिता की राजनैतिक विरासत आधिकारिक रूप से सौंप दी है | पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी  अजित सिंह की श्रद्धांजलि सभा व रस्म पगड़ी कार्यक्रम शुरू हो गया है। इस कार्यक्रम के लिए यहां भारी भीड़ जुट रही है और यूपी के कई जिलों के अलावा हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान तक के लोग यहां पहुंचे हैं। इन सभी राज्यों से खापों के चौधरी भी रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी को पगड़ी पहनाने के लिए पहुंचे हैं। 

छपरौली ही पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चौधरी चरण सिंह व उनके बेटे पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी  अजित सिंह की कर्मभूमि रही है। छपरौली ने रालोद का कभी साथ नहीं छोड़ा और हर संकट के समय में भी यहां के लोग इस परिवार के साथ खड़े रहे। चौधरी  अजित सिंह के निधन के बाद आज छपरौली की यह विरासत उनके बेटे रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी को सौंपी जा रही है। इसके लिए ही उनको पगड़ी पहनाई जाएगी और यह पगड़ी खापों के चौधरी व गणमान्य लोग मिलकर पहनाएंगे। इसके लिए ही छपरौली में भारी भीड़ जमा हुई है। रस्म पगड़ी के दौरान भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने भी स्वर्गीय चौधरी अजित सिंह को श्रद्धांजलि देकर जयंत चौधरी को पगड़ी पहनाई। 

वहीं गठवाला खाप के मुखिया चौधरी श्याम सिंह, कालखंडे खाप के मुखिया संजय कालखंडे, बतीसा खाप के मुखिया चौधरी शोकिंद्र सिंह समेत हरियाणा व राजस्थान से भी खाप चौधरी रस्म पगड़ी में शामिल हुए और जयंत चौधरी को पगड़ी पहनाई। इस दौरान खापों के मुखिया ने कहा की आज से जयंत चौधरी को पगड़ी पहना दी गई है। स्वर्गीय चौधरी अजित सिंह की विरासत को अब वे ही संभालेंगे। आज से उन्हें चौधरी जयंत कहा जाएगा। वहीं पगड़ी रस्म के दौरान जयंत चौधरी भावुक नजर आए। उन्होंने कहा कि आपकी उम्मीद और आशाओं को टूटने नहीं दूंगा। आपका साथ इसी तरह मिलता रहा तो यह मेरे लिए एक कवच का काम करेगा। उन्होंने कहा कि आपने मुझे चौधरी चरणसिंह और चौधरी अजित सिंह की विरासत सौंपी है तो मैं उसका सम्मान करते हुए पूरी जिम्मेदारी के साथ उसे जरूर संभालूंगा। 

इससे पहले जयंत चौधरी ने हवन में आहुति देकर और चौधरी अजित सिंह के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। जयंत चौधरी ने मंच पर पहुंचकर लोगों का अभिवादन किया। इसके बाद खाप मुखिया व अन्य गणमान्य लोगों ने उन्हें पगड़ी पहनाई।  इस दौरान उनके साथ भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत भी मौजूद रहे। इस कार्यक्रम के साथ ही रालोद अपनी ताकत भी दिखा रहा है, तो वहीं यहां से जयंत चौधरी के हाथों को मजबूती देने के लिए भावनात्मक अपील हो रही है। हालांकि जयंत चौधरी के सामने दादा व पिता की विरासत को आगे बढ़ाना किसी चुनौती से कम नहीं है, क्योंकि हिंदू-मुस्लिम का भाईचारा बनाना उनके लिए सबसे जरूरी होगा।