कोरोना वायरस का मरीज मतलब मौत नहीं, 80 पर्सेंट को नहीं जाना पड़ता अस्पताल, ठीक हो चुके 1.51 लाख संक्रमित

कोरोना वायरस… दुनिया में डर का दूसरा नाम बन गया है। इस वायरस का संक्रमण जिस तेज गति से फैल रहा है वह जरूर भयभीत करने वाला है, लेकिन कोरोना का मतलब जिंदगी खत्म होना नहीं है। दुनिया में अभी तक करीब 7 लाख 22 हजार लोग कोरोना से संक्रमित हैं, जिनमें से 33 हजार लोगों की जान गई है तो 1 लाख 51 हजार लोग पूरी तरह ठीक होकर सामान्य जिंदगी जी रहे हैं।

जिन 5 लाख 36 हजार मरीजों का इलाज चल रहा है उसमें से 5 लाख 9 हजार यानी 95 फीसदी में बीमारी कम या मध्यम दर्जे की है। 5 पर्सेंट मरीजों यानी 26 हजार की स्थिति गंभीर है। इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि कोरोना से संक्रमित अधिकांश लोग ठीक हो जाते हैं।

80% को अस्पताल में भर्ती करने की भी जरूरत नहीं-
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, कोरोना संक्रमित 80 फीसदी लोगों को अस्पताल में भर्ती करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। लोग हल्का बुखार महसूस करते हैं और वे जल्द ठीक हो जाते हैं जबकि 20 प्रतिशत लोगों में सर्दी, जुकाम, बुखार जैसे गंभीर लक्षण दिखते है और उन्हें अस्पताल में भर्ती करना जरूरी हो जाता है। अस्पताल में भर्ती होने वालों में महज 5 प्रतिशत को ही सर्पोटिव ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ती है जिसमें नई दवाएं दी जाती हैं।

भारत में कितने लोग ठीक हुए-
भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 106 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। इसके बाद कोविड-19 के मामले 1000 का आंकड़ा पार कर गए। देश में इस वायरस की वजह से 27 लोगों की जान गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोविड-19 के सक्रिय मामलों की संख्या 901 है, जबकि 95 लोग ठीक हो चुके हैं, अन्य का इलाज चल रहा है।

किन्हें अधिक खतरा ?
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के मामलों के अध्ययन के बाद रिपोर्ट दी कि कोरोना वायरस उन मरीजों के लिए अधिक घातक साबित हो रहा है, जो पहले से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का सामना कर रहे हैं। दिल के मरीज, डायबिटीज, कैंसर जैसे रोगों से पीड़ित लोग या बुजुर्गों को कोरोना से अधिक खतरा है, क्योंकि ऐसे लोगों की रोग से लड़ने की क्षमता पहले से ही कमजोर होती है।

अमेरिका में सबसे अधिक संक्रमित, इटली में सबसे ज्यादा मौत-
कोरोना संक्रमित मरीजों और इसकी वजह से हुई मौतों के आंकडों पर नजर डालें तो चीन अब पीछे हो गया है, जहां से यह वायरस फैला। संक्रमित मरीजों की संख्या में अमेरिका सबसे आगे है। यहां करीब 1 लाख 42 हजार लोग संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें से 2,484 लोगों की मौत हो चुकी है। इटली में करीब 97 हजार लोग संक्रमित हैं, जिनमें से 10,779 लोगों की जान गई है।