भारत में कोरोना के मरीज 2000 से पार, मरकज से जुड़े 358 पॉजिटिव, जमात के 8 हजार लोगों पर खतरे के बादल

नई दिल्ली | दिल्ली के निजामुद्दीन तबलीगी जमात मरकज की वजह कोरोना वायरस के मामलों में अचानक बड़ा उछाल आया है। देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 2 हजार के पार चली गई है। इनमें से 358 केस मरकज से जुड़े हुए हैं। इतना ही नहीं मरकज जुड़े करीब 8 हजार लोगों में संक्रमण का खतरा है। डराने वाली बात यह है कि ये लोग देश के अलग-अलग कोने में फैल चुके हैं।

25 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, ऐसे 8,500 लोगों की पहचान की गई है, जो मरकज से जुड़े हैं। इसके अलावा 2,346 लोग दिल्ली में मरकज की इमारत से निकाले गए हैं। इनमें से 531 लोगों को कोरोना वायरस के लक्षण दिखने की वजह से अस्पतालों में भर्ती किया गया है, जबकि अन्य को क्वारंटाइन किया गया है।

देशभर में अब तक पाए गए पॉजिटिव केसों में से 358 मरकज से जुड़े हुए हैं। मरकज से जुड़े सबसे अधिक मामले तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में हैं। केवल इन तीन राज्यों में संक्रमित मिले 237 लोग मरकज से संबंधित हैं। केवल तमिलनाडु में बुधवार को 110 लोग संक्रमित मिले। उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि वे मोबाइल के लोकेशन के जरिए उन लोगों की पहचान कर रहे हैं। यूपी सरकार ने मरकज से लौटे करीब 95 फीसदी लोगों को ट्रेस करने का दावा किया है।

दिल्ली पुलिस और इंटेलिजेंस ब्यूरों के मुताबिक 10 मार्च से 24 मार्च के बीच मरकज में करीब 6,500 से 7,000 लोग पहुंचे थे। इनमें से 300 से अधिक विदेशी हैं। मरकज में शामिल होने के बाद हजारों लोग देश के अलग-अलग इलाकों में जा चुके हैं। इनमें से बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हो सकते हैं और इतने दिनों में उन्होंने वायरस को किस-किस को ट्रांसफर किया यह पता लगाना बेहद मुश्किल है। ऐसे ट्रेनों और बसों की भी पहचान की जा रही है जिनमें इन्होंने यात्रा की।

युद्ध स्तर पर तलाश के आदेश-
बुधवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पुलिस और प्रशासन मुखिया से वीडिया कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात करते हुए कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने तबलीगी जमात से जुड़े लोगों और उनके संपर्क में आए अन्य लोगों की पहचान के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास का आदेश दिया।

70 देशों के 2 हजार विदेशी हुए शामिल-
इंटेलिजेंस ब्यूरों के अधिकारियों के मुताबिक 1 जनवरी से अब तक 70 देशों के करीब 2 हजार विदेशी टूरिस्ट वीजा पर आए और मरकज में शामिल हुए, जबकि नियमों के मुताबिक टूरिस्ट वीजा पर आकर धार्मिक गतिविधियों में शामिल होना वैध नहीं है। गृहमंत्रालय के मुताबिक इनमें से 493 लोग बांग्लादेश, 472 इंडोनेशिया, 150 मलेशिया और 142 थाइलैंड से आए थे।