पीएम की सुरक्षा में चूक की जांच के लिए समिति गठित, जल्द ही सौंपनी होगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। गृह मंत्रालय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब में फिरोजपुर की यात्रा के दौरान सुरक्षा व्यवस्था में गंभीर चूक की जांच के लिए एक समिति का गठन किया है। इस तीन सदस्यीय समिति का नेतृत्व सुधीर कुमार सक्सेना, सचिव (सुरक्षा), कैबिनेट सचिवालय करेंगे। इसमें बलबीर सिंह, संयुक्त निदेशक, आईबी और एस सुरेश, आईजी, एसपीजी शामिल होंगे। समिति को जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है।

दरअसल, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस घटना को सुरक्षा में बड़ी चूक करार दिया है जिसकी वजह से वीवीआईपी के लिए गंभीर जोखिम पैदा हुआ। गृह मंत्रालय ने जिम्मेदारी तय करने और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के अलावा राज्य सरकार से तत्काल रिपोर्ट भी मांगी है।

गृह मंत्रालय की समिति का गठन घटना के एक दिन बाद किया गया है जब पीएम मोदी को कुछ प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़क अवरुद्ध किए जाने के कारण 20 मिनट तक फ्लाईओवर पर फंसे रहने के बाद पंजाब की अपनी यात्रा से वापस लौटना पड़ा था।

इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि फिरोजपुर में जो कुछ भी हुआ, उसमें प्रधानमंत्री की जान को खतरा जैसी कोई बात नहीं थी बल्कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मंशा से अपनाया गया एक हथकंडा है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट में भी मामले को लेकर याचिका दायर की गई है।

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में आरोप और प्रत्यारोप के सिलसिले के बीच पंजाब सरकार ने पूरे प्रकरण की जांच के लिए दो सदस्यीय समिति गठित कर दी थी। इन सबके बीच देश भर में भाजपा नेताओं ने प्रधानमंत्री के दीर्घायु होने की कामना करने हुए मंदिरों में पूजा-अर्चना की और महामृत्युंजय मंत्र का जाप भी किया।