CM योगी अफसरों से नाराज, गौतमबुद्ध नगर के डीएम-एसएसपी से कही ये बड़ी बात-

लखनऊ | अपेक्षित परिणाम न मिलने से सूबे के सीएम योगी अफसरों ने बेहद नाराज हैं | उन्होंने सख्त लहजे में कहा, मैं एक ही बात बार-बार नहीं कहूंगा। एक बार कहने के बाद नतीजे चाहिए। ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी मामले में बिल्डरों पर अब तक कार्रवाई न होने से खफा सीएम ने दो टूक कहा कि गौतमबुद्धनगर के डीएम और एसएसपी बेईमान बिल्डरों से रिश्तेदारी न निभाएं। बिल्डरों को तो अब तक जेल में होना चाहिए था।

सीएम ने कहा कि विकास प्राधिकरणों ने अनियोजित विकास को कमाई का जरिया बना लिया है। अवैध निर्माण के बाद उनकी आंख तब खुलती है, जब अपनी जेब भरनी होती है। अब ऐसा नहीं चलेगा। सीएम ने प्रत्येक प्राधिकरण में टाउन प्लानर की नियुक्ति के निर्देश दिए हैं। कहा कि प्राधिकरण कंपाउंडिंग की श्रेणीवार व्यवस्था कर अपनी आय बढ़ाने का प्रयास करें। हर काम के लिए सरकार से पैसे की उम्मीद न करें।

सीएम ने अफसरों से साफ कहा कि वे बैठकों में पूरे होमवर्क के साथ आएं, न कि सतही जानकारी के साथ, देश के लिहाज से यूपी की भूमिका अहम है। हम पिछलग्गू बनकर नहीं रह सकते। अफसरों को इसी के अनुसार अपने रवैये में बदलाव करना होगा। जो भी निर्णय होता है, उसके फॉलोअप की पूरी व्यवस्था करें और निर्णय पर समय से अमल सुनिश्चित करें। सीएम ने बुधवार शाम अपने सरकारी आवास पर बैठक में अफसरों के लापरवाह रवैये पर जमकर लताड़ लगाई। शाहबेरी मामले में मुख्यमंत्री ने आरोपी बिल्डरों की संपत्ति जब्त कर नीलामी करने और उससे मिले पैसे ग्राहकों को लौटाने, अवैध निर्माण ध्वस्त करने के निर्देश दिए। बैठक में मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पांडेय समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे |