पिछली घटनाओं से सबक ले भारत, डोकलाम हमारा हिस्सा : चीन

बीजिंग | चीन की हेकड़ी बरकरार है। आज चीनी सेना ने स्पष्ट रूप से कहा कि डोकलाम चीन का हिस्सा है। भारत को 73 दिनों तक चले गतिरोध से सबक लेना चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं को टाला जा सके।  आज चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल वू कियान ने कहा कि ‘डोकलाम चीन का हिस्सा है और भूटान से ही हमारा विवाद है। चीन का ये जवाब भारतीय सेना प्रमुख जनरल रावत के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत को पाकिस्तान से लगती सीमा से अपना फोकस शिफ्टकर चीन सीमा पर केंद्रित करना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा था कि चीन की ओर से वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है।

मीडिया रिपोट्र्स के मुताबिक चीन ने वहां किए जा रहे अपने निर्माण कार्य को भी जायज ठहराया है और वहां तंबू अब भी लगे हैं। निगरानी चौकियां मौजूद हैं। इस क्षेत्र को लेकर भूटान और चीन के बीच विवाद है। गौरतलब है कि पिछले साल 16 जून को भारतीय सैनिकों ने विवादित डोकलाम क्षेत्र में चीनी सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था।

चीन ने आज उन रिपोर्टों को खारिज किया जिसमें कहा गया कि वह अफगानिस्तान में सैन्य अड्डा स्थापित करने की योजना बना रहा है।चीन के रक्षा मंत्रालय की प्रवक्ता वू क्यूईन ने नियमित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि अफगानिस्तान में सैन्य अड्डा स्थापित किये जाने संबंधी रिपोर्ट आधारहीन है।