भाजपा के निलंबित सांसद कीर्ति आजाद झा ने सीबीआई को पिजरे का तोता करार दिया

पूर्व वित्त मंत्री के ठिकानों पर सीबीआई के छापे से देश भर में खलबली मची है। विपक्ष इसे बदले की कार्रवाई कह रहा है तो अब भाजपा के ही एक निलंबित सांसद ने भी सीबीआई को लेकर तीखे सवाल उठाए हैं। भाजपा के निलंबित सांसद कीर्ति आजाद झा ने सीबीआई को पिजरे का तोता करार दिया और पूछा कि उसने केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली के खिलाफ कथित 400 करोड़ रुपये के डीडीसीए घोटाले में उनकी शिकायत पर कार्रवाई क्यों नहीं की। झा ने एक ट्वीट किया, “जब सीबीआई अन्य नेताओं के यहां छापे मार रही है, तो उसने अरुण जेटली के 400 करोड़ रुपये के डीडीसीए घोटाले को क्यों छोड़ दिया? पिजरे के तोते सीबीआई को सभी दस्तावेजी सबूत दिए थे।
झा की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब सीबीआई ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के परिसरों में मंगलवार को छापे मारे हैं। ये छापे एफआईपीबी मंजूरी देने में किए गए आपराधिक अनाचार के संबंध में मारे गए हैं। झा बिहार के दरभंगा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद हैं, लेकिन जेटली पर सार्वजनिक रूप से निशाना साधने के लिए उन्हें 23 दिसंबर को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था। वह तब से जेटली पर निशाना साध रहे हैं, जब से उन्होंने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में भ्रष्टाचार को लेकर अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं। जेटली ने निलंबित भाजपा नेता के खिलाफ अवमानना का एक मामला दर्ज किया है।