..तो क्या असदउद्दीन ओवैसी AIMIM को बंद कर सियासत छोड़ दें !

गत दिनों आये बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद देश मे भाजपा विरोधी दलों की सियासत को बड़ा झटका लगा है | पश्चिम बंगाल और यूपी के आम चुनाव से पहले बिहार में भाजपा की हार की आस लगाए बैठे राजनैतिक दल बिहार में फिर एनडीए की जीत को पचा नहीं पा रहे हैं | हालाँकि, एनडीए कुछ सीटों पर बहुत कम वोट से जीता है, जिसको पावर और पैसे के दम पर जीतना राजद, कांग्रेस सहित अन्य…

Read More

बहुत मुश्किल है इस दौर में अलका लांबा होना..

राजनैतिक दलों ने सियासी रूप से लड़ाई का नया रणक्षेत्र सोशल मीडिया को बनाया हुआ है | दलों के आईटी सेल उनके खिलाफ उठने वाली हर आवाज का चीरहरण करने को बेताब हैं | मुद्दे की बात करने वालों को भद्दी-भद्दी गालियां देने से लेकर उसके विषय में फेक न्यूज़ चलाना आम बात है | लॉक डाउन में भी मुद्दों की बात रखने वालों को इस आईटीसेल का सामना करना पढ़ रहा है | आजकल दिल्ली की चर्चित कांग्रेस…

Read More

..तो कोरोना है चीन द्वारा बनाया गया जैविक बम !

इक्कीसवीं सदी में आकर पिछले महीने से दुनिया रुक सी गयी है | खुद को ताकतवर मुल्क समझने वाले अमेरिका, फ्रांस, इंग्लॅण्ड, चीन सहित दुनिया के सभी देश सहमे हुए हैं | कोरोना वायरस के रूप में दुनिया में फैली माहमारी ने इंसानियत को झझकोर कर रख दिया है | बड़ेबड़े वैज्ञानिक भी अभी तक कोरोना का इलाज नहीं ढूंढ़ सके हैं | विश्व में आपातकाल सा लगा है | हजारों लोगों की जिंदगी कोरोना वायरस ( कोविड-19 )…

Read More

सोची समझी साजिश है नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताना ! पढ़िए जियाउर्रहमान का यह आर्टिकल-

लोकसभा में भाजपा की भोपाल से सांसद और मालेगाव ब्लास्ट में आतंक की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता दिया तो देशभर में हैरानी है, क्यों ? क्या देश भूल गया कि लोकसभा चुनाव में ठीक पहले भी साध्वी प्रज्ञा ने बयान दिया था कि नाथूराम गोडसे देशभक्त है, था और रहेगा | इस बयान के बाद भी भोपाल की जनता ने उन्हें सांसद चुना और लाखों वोटों से जिताकर संसद भेजा | प्रज्ञा ठाकुर…

Read More

साध्वी प्रज्ञा मुस्लिम होती तो आतंकी होती ! पढ़िए मीडिया को आईना दिखाता यह आर्टिकल-

आप सोचिये कि यदि किसी मुस्लिम को जिसपर आतंकी घटना में शामिल होने का केस चल रहा हो उसे कांग्रेस या अन्य कोई दल लोकसभा का प्रत्याशी बना दे तो देश में कथित राष्ट्रवादियों और मीडिया की क्या प्रतिक्रिया होती ? देशभर में भाजपाइयों ने हंगामा खड़ा कर दिया होता और तूफ़ान ला दिया होता | लेकिन राष्ट्रवाद का राग अलापने वाली भाजपा ने अचानक चुनाव में आतंकवाद की आरोपी मालेगांव ब्लास्ट की आतंकी साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से…

Read More

पद और महत्व न मिलने से मुस्लिम मोदी भक्तों में निराशा, मिशन 2019 पर ग्रहण !

वर्ष 2014 मे जब लोकसभा चुनावों की प्रक्रिया चल रही थी जो देश मे एक एैसा माहौल था कि यदि भाजपा और तत्कालीन गुजरात मुख्यमन्त्री नरेन्द्र मोदी सत्ता में आते है तो एक वर्ग विशेष के साथ न्याय नहीं होगा। विशेषरूप से भारतीय मुस्लिम समाज एक प्रकार से डरा हुआ था कि यदि नरेन्द्र मोदी प्रधानमन्त्री बन गए तो उनके लिए देश मे रहना मुस्किल हो जाएगा। परन्तु ऐसे निराशाजनक माहौल मे भी कुछ मुस्लिम तत्कालीन गुजरात मुख्यमन्त्री नरेन्द्र…

Read More

आगरा में जिंदा जलाई गई बेटी दलित न होती तो मीडिया और हिन्दूवादियों के लिए सुर्खियां होती !

डिजिटल होती दुनिया के दौर में हिंदुस्तान में अभी भी जाति और धर्म पर बहस राजनैतिक एवं सामाजिक रूप से हावी है। लोकसभा के चुनाव हों या विधानसभा के देश मे सरकारे रोजगार, विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दे पर न बनकर धर्म और जाति पर बन रही हैं । विशेष बात यह है कि अब भगवान की जाति बताने का दौर भी भारत मे शुरू हो गया है । विश्व जहां नए नए अविष्कार कर रहा है, वहीँ…

Read More

बाप आजम खान पर FIR दर्ज होते ही बेटे अब्दुल्लाह को याद आया Aligarh एनकाउंटर !

लखनऊ । सियासत भी अजब गुल खिलाती है, यहां कौन, कब, कैसे नेताओं को याद आयेगा परिस्थितियों पर निर्भर करता है । अब आप सपा के बड़े नेताओं में शुमार, मुस्लिमो के बड़े नेता कहे जाने वाले आज़म खान के परिवार को ही देख लीजिए ,जैसे ही लखनऊ में आज़म खान के खिलाफ 2016 में डॉ आंबेडकर के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने का मामला दर्ज हुआ उनका परिवार आक्रोशित हो उठा । खुद आजम खान ने तो योगी सरकार…

Read More

व्यंग : फिल्मों में पुलिस : क़ानून के हाथ बंधे हैं ! और यह तस्वीर भी कुछ कहती है !!

कार्यालय|….आजकल यह तस्वीर फेसबुक व सोशल-मिडिया पर तैर रही है,अनायास ही कुछ देर ध्यान आकर्षित कराती है और सोचने पर मजबूर करती है कि फिल्मों के डायलाग क्या ,जमीनी हक़ीकत बन सकते हैं ? रोज यातायात-पुलिस हेलमेट के चालान काट रही होती है, थाना-चौकी में भी मेहमान आ रहे है,कुटाई चल रही है,परन्तु किसकी ? लोगों को कहते हुए सुना जाता है कि पुलिस का चक्कर पड़ गया है,अब रुपयों का इंतजाम करना पड़ेगा, आरोपी और अभियुक्त दोनों को…

Read More

तेल कंपनियों ने पेट्रोल डीलरों से मांगी जाति, धर्म, से जुड़ी जानकारियां : रविश कुमार

दिल्ली|एक ऐसे दौर में जब हमारी निजता, हमारे निजी आंकड़ों की प्राइवेसी को लेकर ख़तरा बढ़ रहा है एक नया विवाद खड़ा हो गया है. पेट्रोलियम मंत्रालय ने अपने डीलरों से कहा है कि वे अपना यहां काम करने वाले करीब दस लाख कर्मचारियों का डेटा दें. कुल 24 प्रकार की जानकारी मांगी गई है. इसमें जाति पूछी गई है. धर्म और चुनाव क्षेत्र की भी जानकारी मांगी गई है. जाति और धर्म और चुनाव क्षेत्र की जानकारी हासिल…

Read More