बुलंदशहर : सपा प्रत्याशी रहे हरीश लोधी को झूठा जेल भेजने से गरमाई सियासत

शुभम अग्रवाल, बुलंदशहर | सपा से डिबाई विधानसभा से गत विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी रहे हरीश लोधी को चुनाव लड़ना अब महंगा पड़ रहा है | सपा के सत्ता से जाने के बाद अब योगी सरकार में उनके साथ बदले की भावना से व्यवहार हो रहा है | हजारों लोगो का प्रतिनिधित्व करने वाले हरीश लोधी को बुलंदशहर पुलिस ने मेडिकल रिपोर्ट में शराब पीने की पुष्टि न होने के बावजूद जेल भेज दिया | डिबाई के लोगो में हरीश को झूठा फंसाने के विरोध में रोष व्याप्त है | वहीँ समाजवादी पार्टी भी पूरे मामले को जोर शोर से उठाने की तैयारी कर रही है |
बताते चलें कि गत तीन माह पूर्व प्रदेश विधानसभा चुनाव मे डिबाई क्षेत्र से सपा प्रत्याशी रहे हरीश लोधी  को जनपद मे पार्टी का कददावर नेता माना जाता है। सपा मे शामिल होने से पूर्व वह वर्तमान मे राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के खास लोगो मे गिने जाते थे। विस चुनाव मे कल्याण  सिंह द्वारा टिकट के लिये पैरवी न करने से खफा हो कल्याण का दामन छोड सपा  की साइकिल पर सवार हो चुनाव लडे हरीश लोधी  की क्षेत्र मे अच्छी पहचान है। बताया जाता है कि वर्ष 2019 मे होने वाले लोकसभा चुनाव मे वह सपा के टिकट पर एटा जनपद से खम ठोकने की तैयारी मे जुटे थे  यहां से कल्याण सिंह के पुत्र राजवीर सिंह उर्फ राजू भैया भाजपा सांसद है। गत 12 जून की रात अपने दिल्ली बदायू हाइवे पर थाना डिबाई क्षेत्र मे भीमपुर दौराहा पर गाडी  सडक किनारे खडी कर अपने समर्थको से बतिया रहे हरीश लोधी पर   शराब पीकर उत्पात मचाने तथा एसएसपी मुनीराज से अभद्रता करने के आरोप मे स्वयं एसएसपी ने हरीश लोधी,सोनू वर्मा,विशाल व रेवती को पकड थाना पुलिस  को सौंप दिया।
बताया जाता है कि आरापी सपा नेता भीमपुर दौराहा के पास स्थित ग्राम दानपुर का निवासी है और एसएसपी रात्री गश्त करते हुए मौके पर पहुंचे थे। एसएसपी की इस कार्यवाही के विरोध मे सैकडो ग्रामीणो ने दिल्ली बदायू हाइवे जाम कर हंगामा काटा। बाद मे एसएसपी के निर्देश पर कई थानो की पुलिस ने मौके पर पहुंच समर्थको के खदेडा। दौलतपुर चौकी प्रभारी आनन्दवीर की तहरीर पर हरीश लोधी समेत उपरोक्त चार के विरूद्व धारा 147,148,353,342,341,504,506 आईपीसी व 7 क्रिमीनोलाजी एक्ट मे मुकदमा दर्ज कर आरोपियो का मैडिकल परीक्षण करा जेल भेजा गया है।   एसएसपी ने सपा जिलाध्यक्ष कुवंर अब्दुल रब एडवोकेट के तमाम विरोध व दलीलो को खारिज कर दिया जिसे लेकर सपाइयो मे भारी रोष है | वह इसे राजनैतिक द्वेषवश की गई फर्जी कार्यवाही करार दे रहे है। इधर मैडिकल रिपोर्ट मे आरोपी सपा नेता व अन्योके शराब के नशे मे होने की पुष्टि न होने तथा पुलिस द्वारा गाडी से शराब की बरामदगी मे विफल रहने ने पुलिस कार्यवाही पर सवालिया निशान लगा दिया है।  इसके अलावा  पुलिस रिपोर्ट मे अंकित  110 अन्य अज्ञात आरोपियो को लेकर  सपा से जुडे ग्रामीणो मे निर्दोषो को इस प्रकरण मे फंसाये जाने की आशंका को लेकर दहशत व्याप्त है। सपा जिलाध्यक्ष अब्दुल रब एडवोकेट ने बताया कि  मामले से पार्टी हाईकमान को अवगत करा दिया गया है। हरीश लोधी की जमानत होने पर पार्टी इस मामले मे आंदोलन की रूपरेखा तैयार करेगी।