बुलंदशहर जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए त्रिकोणीय हुुआ मुकाबला, 29 को होगा फैसला

बुलंदशहर | सपा की सरकार के बाद भाजपा में एकबार फिर जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए जोड़तोड़ शुरू हो गयी है | उपचुनाव में मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है। छह में से दो पूर्व अध्यक्षों समेत तीन प्रत्याशियों ने अपनी दावेदारी छोड़ दी है। पूर्व अध्यक्ष आशा यादव, हरेंद्र यादव और धर्मवीर पोल ने नाम वापस ले लिए हैं। अब मैदान में तीन दावेदारों के बचने से मुकाबला रोचक हो गया है।

बृहस्पतिवार को जिला पंचायत उपचुनाव के लिए नाम वापसी की प्रक्रिया हुई। इसमें तीन दावेदारों ने अपने नाम वापस ले लिए। इनमें पूर्व अध्यक्ष हरेंद्र यादव, पूर्व अध्यक्ष आशा यादव और धर्म सिंह पोल शामिल हैं। अब मैदान में रेनू चौधरी, ओमवीर सिंह और महेंद्र भैया बचे हैं। तीन प्रत्याशी के होने से मुकाबला कठिन और रोचक हो गया है। पहले चर्चा थी कि हरेंद्र यादव या आशा यादव में से एक जरूर चुनाव लड़ेगा, लेकिन दोनों पूर्व अध्यक्षों ने नाम वापस लेकर कई समीकरणों को बिगाड़ दिया है। अब तीनों दोवेदार सदस्यों को अपने अपने पक्ष में करने के लिए मान मनौव्वल में जुट गए हैं। 29 जुलाई को मतदान होना है, ऐसे में देखना होगा कि जिपं के दंगल का बादशाह कौन बनता है।

एडीएम प्रशासन/उप जिला निर्वाचन अधिकारी रवींद्र कुमार ने बताया कि छह प्रत्याशियों में से तीन ने अपने नाम वापस ले लिए हैं। जिपं अध्यक्ष पद की दौड़ में अब महेंद्र भैया, रेनू चौधरी और ओमवीर सिंह रह गए हैं। 29 को मतदान कराया जाएगा।