योगीराज में भाजपाइयों और प्रशासन में टकराव, बुलंदशहर के सांसद-जिलाध्यक्ष पर FIR, जनहित में दीवार तोड़ना पड़ा भारी

बुलंदशहर । योगीराज में भले ही भाजपाई सब कुछ अच्छा होने के दावे करें लेकिन हकीकत कोसों दूर है । भाजपा के जनप्रतिनिधियों को भी अधिकारी नही सुन रहे हैं । जनहित के कामो पर अफसरशाही बेलगाम है । अब बुलंदशहर में भाजपा सांसद और जिलाध्यक्ष पर जिला प्रशासन ने मुकद्दमा दर्ज किया है । जनहित में डीएम कालोनी का रास्ता खोलने के मुद्दे पर भाजपा और प्रशासन आमने सामने है । डीएम कॉलोनी में करीब आठ माह पूर्व बंद कराए गए रास्तों की दीवार को लेकर जिला प्रशासन और भाजपाई रविवार को एकदूसरे के खिलाफ लामबंद हो गए हैं । डीएम कॉलोनी में रास्तों पर लगी दीवारों को भाजपा सांसद डा.भोला सिंह ने हथौड़ा चलाकर तोड़ने की शुरुआत कर दी। फिर लोगों ने सात में से पांच रास्तों बनी दीवार तोड़ डाली। इस मामले में सांसद, जिलाध्यक्ष समेत चार नामजद और 35-40 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। प्रशासन ने टूटी दीवारों के स्थान पर बैरीकेडिंग कराकर पुन: दीवार निर्माण करना भी शुरू कर दिया।

बुलंदशहर की डीएम कॉलोनी में जिले के बड़े अफसरों के आवास हैं। मार्च माह में तत्कालीन डीएम डा.रोशन जैकब ने डीएम कॉलोनी में प्राइवेट कॉलोनी की ओर से खुले सात रास्तों पर दीवार लगाकर उन्हें बंद करा दिया था। कॉलोनी के मुख्य मार्गों पर गेट भी लगवाए थे। दीवारें लगाने पर उस समय भी काफी हंगामा-प्रदर्शन हुआ था। डा. रोशन जैकब के स्थानांतरण के बाद आए डीएम अनुज कुमार झा से भाजपाई और स्थानीय लोग रास्तों पर बनी दीवारें हटवाने की मांग कर रहे थे।

रविवार सुबह सांसद डा.भोला सिंह के साथ जिलाध्यक्ष हिमांशु मित्तल डीएम कॉलोनी पहुंचे। स्थानीय लोगों ने उनसे दीवार हटवाने की मांग की। इस पर सांसद ने हथौड़ा चलाकर दीवार गिराने की शुरुआत कर दी। फिर लोगों ने एक-एक करके सात में से पांच रास्तों पर लगी दीवारों को गिरा दिया। इसकी खबर लगते ही प्रशासन में खलबली मच गई। डीएम के निर्देश पर आनन-फानन भारी पुलिस बल बुलाकर उक्त स्थानों पर बैरीकेडिंग कराई गई। उक्त स्थानों पर पुन: दीवार बनवानी भी शुरू करा दी गई।

नगर कोतवाल धनंजय मिश्र ने बताया कि पीडब्लूडी के जेई पवन कुमार ने सांसद डा.भोला सिंह, जिलाध्यक्ष हिमांशु मित्तल, लक्ष्मीराज सिंह और प्रदीप बोहरे समेत 35-40 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। दूसरी ओर, एफआईआर दर्ज होने पर भाजपाइयों में रोष व्याप्त है। भाजपाई पूरे घटनाक्रम पर नजर रखते हुए आगे की रणनीति तैयार करने में जुट गए हैं।

डीएम अनुज कुमार झा का कहना है कि पूरे मामले की जांच एडीएम प्रशासन कर रहे हैं। इसमें कानूनी कार्रवाई की जा रही है। मामला सुरक्षा से जुड़ा हुआ है। ये आम रास्ते नहीं हैं। सभी पर दीवारें लगवाई जाएंगी। एसएसपी केबी सिंह ने बताया कि पीडब्लूडी के जेई पवन कुमार की तहरीर पर नगर कोतवाली में सांसद डा.भोला सिंह, जिलाध्यक्ष हिमांशु मित्तल, लक्ष्मीराज सिंह और प्रदीप बोहरे समेत 35-40 अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। सुरक्षा की दृष्टि से डीएम कॉलोनी में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

वहीं सांसद डा.भोला सिंह का कहना है कि जनहित में दीवार तोड़ी गई है। हजारों परिवार परेशान थे। जनहित में एक नहीं 10 एफआईआर भी झेलने को तैयार हैं। डीएम की मानसिकता सरकार विरोधी है। सीएम से इसकी शिकायत की जाएगी। यदि दीवार बनी तो फिर तोड़ेंगे।