बीजेपी विधायक ने दुपहर में किया इस्तीफे का ऐलान, शाम में वापस लिया फैसला

पटना। बिहार के नरकटियागंज से भाजपा विधायक रश्मि वर्मा ने रविवार दोपहर निजी कारणों के चलते बिहार विधान सभा से इस्तीफे देने का ऐलान किया। बिहार बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल से बातचीत के बाद वह पलट गईं। उन्होंने रविवार शाम में कहा कि वे विधायक पद से इस्तीफा नहीं देंगी।

बता दें कि रश्मि वर्मा पश्चिमी चंपारण यानी बेतिया के नरकटीकगंज विधान सभा क्षेत्र से भाजपा की विधायक और बिहार विधान सभा की सदस्य हैं। रविवार दोपहर विधायक रश्मि वर्मा बिहार बीजेपी नरकटीकगंज एमएलए रश्मि वर्मा ने बिहार विधान मंडल अध्यक्ष के नाम पत्र लिखकर ऐलान किया कि उन्होंने निजी कारणों के चलते विधान सभा से अपनी सदस्यता वापस लेने का फैसला किया है। साथ ही पत्र में विधायक वर्मा ने विधानमंडल अध्यक्ष से अपना इस्तीफा स्वीकार करने की गुजारिश भी की। उनके इस फैसले के बाद बिहार भाजपा में खलभली मच गई।

पत्र के जरिए ऐलान करने के बाद नरकटियागंज से विधायक रश्मि वर्मा राजधानी पटना के लिए रवाना हो गई। इस्तीफे के ऐलान दौरान वर्मा ने बताया था कि वह शाम में विधानसभा अध्यक्ष को अपना त्यागपत्र सौंप देंगी। इन सब के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने उनसे बातचीत की। उसके बाद रविवार शाम अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जायसवाल ने इस मामले को लेकर बताया कि नरकटियागंज विधायक शर्मा अपने पारिवारिक विवादो से नाराज होने के चलते इस्तीफा देने की बात कही थी। मेरी उनसे बात हुई हैं। वह पटना जा रही थी। अब वह इस्तीफा नहीं देंगी।

दरअसल इन दिनों रश्मि वर्मा का अपने पति के भाइयों से जमीन का विवाद चल रहा है. विधायक रश्मि शर्मा शिकारपुर पुलिस की कार्यशैली और अपने परिजनों के व्यवहार से क्षुब्ध होकर दोपहर में इस्तीफा देने की बात कही थी और विधानसभा अध्यक्ष के नाम से पत्र लिखा था. अगर उन्हें शिकारपुर पुलिस से कोई दिक्कत है तो अब बेतिया पुलिस अधीक्षक (एसपी) के पास जाकर अपनी बात रखेंगी। बेतिया पुलिस अधीक्षक एसपी स्वयं उनके मामले को देखेंगे।

प्रदेश अध्यक्ष डॉ. जायसवाल से बातचीत के बाद रविवार देर शाम विधायक रश्मि वर्मा ने मोबाइल कॉल पर बताया कि मैं इस्तीफा नहीं दूंगी। अभी पटना पहुंच रहीं हूं। सोमवार को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष से मुलाकात कर अपनी समस्याओं से अवगत कराऊंगी।