अलीगढ़ में BJP नेता की हत्या से सनसनी, मुकुल उपाध्याय का रिश्तेदार है मृतक

अलीगढ़ । रिश्तों को शर्मशार करते हुए रविवार देर रात्रि शहर में भाई ने ही भाई की जान ले ली । BJP नेता सौरभ शर्मा को उसी के भाई अभिषेक शर्मा ने मौत के घाट उतार दिया । महानगर के प्रमुख हार्डवेयर कारोबारी घराने से ताल्लुक रखने वाले भारतीय जनता युवा मोर्चा के महानगर उपाध्यक्ष सौरभ शर्मा (30) की रविवार देर रात सिर में पंखे के स्टैंड की रॉड मारकर हत्या कर दी गई। हत्या का आरोप सगे बड़े भाई बजरंग दल में जिला प्रभारी की जिम्मेदारी संभाल रहे अभिषेक शर्मा उर्फ चंचल पर है।

हत्या के मूल में दोनों भाइयों के बीच बंटवारे का विवाद बताया गया है। खास बात यह है कि मृत सौरभ शर्मा पूर्व एमएलसी व वरिष्ठ भाजपा नेता मुकुल उपाध्याय के सगे साढ़ू थे। इस खबर पर पुलिस प्रशासनिक अमले में भी अफरा-तफरी मच गई। एसएसपी, एसपी सिटी सहित तमाम पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। पुलिस की एक टीम घटनास्थल पर जांच में जुटी थी, जबकि एक टीम आरोपी की तलाश में भागदौड़ कर रही थी।

सासनी गेट के जयगंज पीली कोठी निवासी हार्डवेयर महंत चंद्रशेखर शर्मा का हार्डवेयर एक्सपोर्ट का पुराना और बड़ा काम है। इनकी एक फैक्ट्री जयगंज में पुराने घर के पास है, जबकि एक फैक्ट्री तालानगरी औद्योगिक एरिया में है। खुद चंद्रशेखर शर्मा औद्योगिक एसोसिएशन के पूर्व में अध्यक्ष भी रह चुके हैं। उनके पांच बेटों में चार विवाहित थे, जिनमें चौथे नंबर के सौरभ शर्मा की शादी पूर्व एमएलसी व भाजपा नेता मुकुल उपाध्याय की साली लिली पाठक पुत्री प्रकाश पाठक निवासी रामलीला मैदान हाथरस संग हुई थी।

पुलिस की अब तक की जांच के अनुसार कुछ समय पहले तक तो चंद्रशेखर के सभी बेटे पिता के कारोबार में ही हाथ बंटाते आ रहे थे। मगर अब कुछ समय से सौरभ और उसके सबसे बड़े भाई अभिषेक शर्मा उर्फ चंचल में बंटवारे को लेकर विवाद होने लगे थे। सौरभ और उसकी पत्नी लिली का चंद्रशेखर पर आरोप था कि वह अपना पूरा कारोबार व संपत्ति सबसे बड़े बेटे अभिषेक को ही सौंपते जा रहे हैं। कुछ माह पहले घर में विवाद हुआ था, उस समय सौरभ की सास भी यहां आई थीं और सार्वजनिक रूप से तय होने पर चंद्रशेखर शर्मा ने सौरभ को 20 लाख रुपये देकर जयगंज वाले हिस्से में ही ताले का काम शुरू कराया था। वह घर में ही परिवार से अलग भी रहने लगा था।

पुलिस के अनुसार इसके बाद भी दोनों भाइयों में मतभेद कम नहीं हो रहे थे। सौरभ का कहना रहता था कि जो रकम मिली है, वह बेहद कम है, जबकि बड़े भाई ने काफी बड़ा हिस्सा पिता से ऐंठ रखा है। रविवार रात करीब 9 बजे इसी विवाद के चलते अभिषेक सौरभ के पास उसके घर के पास ही बने कारखाने पर पहुंचा। जहां दोनों भाइयों में विवाद हुआ। इस दौरान एक अन्य व्यक्ति को भी अभिषेक अपने साथ लेकर गया था। जहां विवाद के दौरान दोनों भाइयों में मारपीट शुरू हो गई। आरोप है कि इसी दौरान अभिषेक ने उसे वहां पड़ी मिली पंखे के स्टैंड की रॉड सिर में मार दी, जिससे वह मौके पर ही गंभीर रूप से जख्मी होकर गिर पड़ा और आरोपी व उसके साथ आया युवक वहां से भाग गए। इस सूचना पर पहुंची पुलिस घायल को जेएन मेडिकल लेकर पहुंची। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। खबर पर एसएसपी आकाश कुलहरि, एसपी सिटी अभिषेक आदि भी पहुंच गए। रोती बिलखती पहुंची सौरभ की पत्नी लिली खुलकर अपने ससुर पर बड़े बेटे अभिषेक का पक्ष लेने व अभिषेक पर हत्या करने का आरोप लगा रही थी।