भाजपा का कारनामा अब समझने लगे हैं छात्र : अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष सहित सभी चारों निर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई दी है। उन्होंने नौजवानों की जीत को समाजवादी विधाराधारा और धर्मनिरपेक्षता की जीत बताया और कहा है कि इस जीत का यह संदेश भी जाता है कि छात्रों के हितों की अनेदखी नहीं की जा सकती है। भाजपा सरकार की नीतियों के कारण छात्रों में भारी आक्रोश है।
बता दें कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ के चुनाव में समाजवादी छात्रसभा के अवनीश यादव अध्यक्ष, चंद्रशेखर चौधरी उपाध्यक्ष, भरत सिंह उपमंत्री, अवधेश पटेल सांस्कृतिक मंत्री विजयी हुए हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को इन चुनावों में करारी हार मिली है।

अखिलेश ने कहा है कि केवल इलाहाबाद में ही नहीं दिल्ली के जेएनयू और दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के अलावा कई अन्य राज्यों में भी भाजपा की छात्र-युवा विरोधी राजनीति का तीखा विरोध हुआ है। नौजवानों को दो करोड़ नौकरियां देने और सस्ती शिक्षा व्यवस्था का प्रलोभन देकर भाजपा ने उनका समर्थन हासिल किया था। भाजपा के अन्य वादों की तरह युवाओं से किया वादा भी हवाहवाई साबित हुआ है। उन्हांने कहा कि पिछले दिनों बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में छात्राओं से छेडखानी के मामले में विद्यार्थी परिषद के नौजवानों ने जो अभद्रता की थी उसकी चारों ओर निंदा हुई है।