भाजपा और आरएसएस के दिग्गज नेता भवानी सिंह की कोरोना से मौत

लखनऊ । भाजपा के सहसंगठन महामंत्री भवानी सिंह को कोरोना ने अपना शिकार बना लिया। पिछले दिनों उनके संक्रमित होने के बाद से हालत बिगड़ती जा रही थी। अभी दो दिन पहले उन्हें एयर लिफ्ट कर इलाज के लिए हैदराबाद ले जाया गया था। बुधवार को हैदराबाद में इलाज के दौरान उनकी हालत और नाजुक होने के बाद मौत हो गई | प्रदेश में उनकी मौत से शोक की लहर है |

2020 नवंबर में भवानी सिंह का भाजपा संगठन ने कद बढ़ाते हुए ब्रज के संगठन मंत्री से सहसंगठन महामंत्री का दायित्व सौंपा था। भवानी सिंह काे वाराणसी का कार्य भार सौंपा गया था। वर्ष 2012 में आगरा के विभाग प्रचारक के रूप में कमान संभालने वाले भवानी सिंह, रूहेलखंड क्षेत्र के गठन के बाद वहां के क्षेत्रीय संगठन मंत्री बनाए गए थे। इसके बाद रूहेलखंड पुन: ब्रज का हिस्सा बन गया, जिससे उनकी ब्रज में बड़े कद के साथ वापिसी हो गई। वर्ष 2016 में ब्रजक्षेत्र के संगठन मंत्री बनाया गया। उन्होंने कमान संभालने के बाद संगठन को कसा ताे कार्यकर्ताओं को मजबूत बनाने का कार्य भी किया।

वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पूरे ब्रज में भगवा लहराया और 65 सीटों में से 57 पर पार्टी ने जीत दर्ज की थी। आगरा की सभी नौ विधानसभा सीटों पर कमल खिला। आगरा में इससे पहले छह सीटों पर बसपा का कब्जा था, एक पर सपा तो दो पर ही भाजपा को संतोष करना पड़ा था। निकाय चुनाव में भी ब्रज में भाजपा ने परचम लहराया, लेकिन अलीगढ़ सीट अपवाद बनी थी। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनावाें में भी भाजपा मजबूती के साथ सामने आई, तो आगरा की दोनों सीटों पर पार्टी ने अपना कब्जा बनाए रखा था।