कोरोना : जमातियों पर बिहार सरकार सख्त, 31 पर FIR, सभी विदेशी गिरफ्तार

पटना । कोरोना के कहर के बीच सरकारी गाइड लाइन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ बिहार सरकार अब सख्त रूख दिखाने लगी है। खासकर विदेशी नागरिक मामले में बिहार सरकार ने कड़ा रूख अख्तियार किया है। इन सब के बीच अररिया और किशनगंज में वीजा के नियमों का उल्लंघन करने में 31 विदेशी जमातियों पर केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

किशनगंज में वीजा के नियमों का उल्लंघन करने और पुलिस प्रशासन को शहर में आने की सूचना नहीं देने के आरोप में 13 विदेशी जमातियों पर किशनगंज के सदर थाने में मामला दर्ज किया गया है। जिन जमातियों पर केस दर्ज हुआ है उनमें 11 पर विदेशी अधिनियम और दो भारतीय नागरिक पर अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। उल्लेखनीय है कि बीते 22 मार्च को 11 विदेशी नागरिक जमाती किशनगंज आये थे। जिनकी शहर में होने की सूचना पुलिस प्रशासन को नहीं दी गई थी।

17 जमातियों को पुलिस ने बेऊर जेल भेजा-
इससे पहले टूरिस्ट वीजा पर पटना आकर धार्मिक प्रचार करते समय दीघा व फुलवारीशरीफ से पकड़े गये किर्गिस्तान, कजाकिस्तान और मलेशिया से 17 जमातियों को पुलिस ने सोमवार को बेऊर जेल भेज दिया। जेल भेजे गये जमातियों में नौ किर्गिस्तान, एक कजाकिस्तान और सात मलेशिया के रहने वाले हैं। इन सभी के ऊपर वीजा के नियमों का उल्लंघन करने तथा पुलिस प्रशासन को जानकारी न देने के साथ ही फार्म सी नहीं भरने का आरोप है। इनमें 10 जमातियों के खिलाफ वीजा उल्लंघन के मामले में दीघा थाने तथा सात के खिलाफ फुलवारीशरीफ थाने में एफआईआर भी दर्ज की गई है।

वीजा के नियमों का उल्लंघन के आरोप में 18 विदेशी गिरफ्तार-
अररिया में भी वीजा के नियमों का उल्लंघन के आरोप में 18 विदेशी जमातियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल ये सभी विदेशी जमाती टूरिस्ट वीजा के नाम पर धर्म प्रचार करने में लगे हुए थे। नौ विदेशी अररिया के जामा मस्जिद में और नौ नरपतगंज स्थित रेवाही मस्ज़िद में रह रहे थे। इन विदेशी नागरिकों में नौ मलेशियाई नागरिक और नौ बांग्लादेशी नागरिक हैं। इन जमातियों पर अररिया थाना और नरपतगंज में एफआईआर दर्ज की गई है।