बुलंदशहर पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किए गैंगरेप के आरोपी, पीड़ित लॉ छात्रा ने की आत्महत्या, लिखा- ‘पुलिस को मेरी बात पर भरोसा नहीं, मम्मी-पापा मुझे माफ़ कर देना’

बुलंदशहर । गैंगरेप के आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से क्षुब्ध पीड़ित छात्रा सोमवार को घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतका ने सुसाइड नोट भी छोड़ा है। अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में हुई घटना के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। तीन आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी छात्रा इंटरमीडिएट के बाद पांच वर्षीय एलएलबी का कोर्स कर रही थी। इस समय वह प्रथम सेमेस्टर की छात्रा थी। इस छात्रा ने एक महीना पहले 16 अक्टूबर को गांव के एक युवक पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था।

साथ ही निकट के एक गांव में ले जाकर दो दोस्तों के साथ गैंगरेप करने और वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने का आरोप भी लगाया था। पुलिस ने 24 अक्टूबर को पीड़िता की तहरीर पर तीनों आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया था, लेकिन पुलिस ने अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया था। इससे क्षुब्ध होकर छात्रा ने सोमवार दोपहर अपने ही घर के एक कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना से परिजनों में कोहराम मच गया।

सुसाइड नोट में ये लिखा-
कमरुदीन, अबरार और मुबीन इन तीनों ने मेरा रेप किया। मेरी जिंदगी खराब कर दी। मुझे कहीं मुंह दिखाने के लायक नहीं छोड़ा। मेरा करियर और मेरा भविष्य सब कुछ बर्बाद कर दिया और मुझे मरने के लिए मजबूर कर दिया। अगर ये जेल चले जाते तो मेरा थोड़ा मनोबल बढ़ जाता। घरवालों और पुलिस किसी को मेरी बात पर भरोसा नहीं है। इसलिए यकीन दिलाने के लिए मेरे पास और कोई रास्ता नहीं है। मैं आत्महत्या कर रही हूं। और इसके जिम्मेदार कमरुददीन, अबरार और मुबीन हैं। पुलिस कुछ नहीं कर रही। मम्मी-पापा मुझे माफ कर देना।

एसएसपी संतोष सिंह ने इस मामले में कहा है कि मृतका के पिता की तहरीर पर तीन आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मामले की गहनता से छानबीन कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।