पंजाब में कांग्रेस सरकार का बड़ा फैसला, माफ होंगे 1.13 लाख किसानों के 1,186 करोड़ रुपये के लोन

चंडीगढ़ | किसानो के आंदोलन के बीच पंजाब की कांग्रेस सरकार ने अन्नदाताओं को लेकर बड़ा फैसला लिया है। राज्य सरकार ने 1.13 किसानों के 1,186 करोड़ रुपये के कर्जों को माफ करने का ऐलान किया है। इसके अलावा पंजाब सरकार ने बजट में किसानों को 7,180 करोड़ रुपये की ऊर्जा सब्सिडी देने का भी ऐलान किया। वित्त वर्ष 2021-22 के लिए राज्य सरकार का बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने यह ऐलान किया। यही नहीं पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सरकार ने भूमिहीन किसानों को भी बड़ी राहत देते हुए उनके 526 करोड़ रुपये के लोन माफ करने का फैसला लिया है।

पंजाब सरकार ने किसानों के लिए ‘कामयाब किसान, खुशहाल पंजाब’ स्कीम की शुरुआत की है। इस स्कीम के तहत फाजिल्का में सब्जियों के लिए उत्कृष्टता समेत कई अन्य सुविधाएं दी जाएंगी। किसानों को लेकर पंजाब सरकार की इन स्कीमों को हालिया किसान आंदोलन से भी जोड़कर देखा जा रहा है। बीते तीन महीनों से ज्यादा वक्त से आंदोलन कर रहे किसानों को इन स्कीमों के जरिए राज्य सरकार ने यह संकेत देने की कोशिश की है कि वह उनके साथ है।

कर्मचारियों को भी सौगात, लागू होगा छठा वेतन आयोग: इसके अलावा पंजाब सरकार ने कर्मचारी वर्ग को भी खुश करने की कोशिश करते हुए 1 जुलाई से छठा वेतन आयोग सूबे में लागू करने का ऐलान किया है। कैप्टन सरकार की ओर से कर्ज माफी का ऐलान करने से 1.13 लाख किसानों को लाभ होगा। बुजुर्गों को बड़ी सौगात देते हुए वृद्धावस्था पेंशन को भी कैप्टन सरकार ने बढ़ाकर 1,500 रुपये करने का ऐलान किया है।

बुजुर्गों की पेंशन डबल, शगुन स्कीम में मिलेंगे 51,000 रुपये: पंजाब के वित्त मंत्री ने 1,68,015 करोड़ रुपये का बजट पेश किया, जिसमें किसानों और कर्मचारियों पर खास फोकस किया गया। राज्य में अगले साल चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में अपने इस आखिरी पूर्ण बजट में पंजाब सरकार ने राज्य के अहम वर्गों को साधने करने की कोशिश की है। अब तक बुजुर्गों को सिर्फ 750 रुपये की ही पेंशन मिलती थी, जो अब दोगुनी हो गई है। इसके अलावा शगुन स्कीम के तहत भी सरकार ने 21,000 रुपये की रकम को बढ़ाकर 51,000 रुपये करने का ऐलान किया है।